दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर में 77 मरीजों ने कोरोना को हराया, मुंबई में मोबाईल एप से मिलेगी अस्पताल के बेड की जानकारी

June 18th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कोरोना से पॉजिटिव होने वालों से ज्यादा लोग अस्पताल से ठहक होकर घर जा रहे हैं। गुरुवार को 32 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जबकि 77 मरीज डिस्चार्ज किए गए हैं। इनमें 46 मेडिकल से, 30 मेयो से और एक मरीज एम्स से डिस्चार्ज किया गया है। 32 नए मरीजों के साथ शहर में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1141 हो गई है। अब तक ठीक होकर घर जाने वाले मरीजों की संख्या 749 हो गई है।

एम्स में 22 सैंपल पॉजिटिव

गुरुवार को पॉजिटिव 32 सैंपलों में 22 की जांच एम्स में हुई है। इनमें से 20 मरीज सिम्बाॅसिस में क्वारंटाइन थे। अन्य दो मरीजों में एक एमएलए और एक वनामति में क्वारंटाइन था। मेयो में पॉजिटिव आए 2 सैंपल में एक गणेशपेठ और एक कमाल चौक स्थित लष्करीबाग के मरीज का है। मेडिकल में जांचा गया सैंपल मंगलमूर्ति क्वारंटाइन सेंटर के मरीजों के हैं। माफसू लैब मंे पॉजिटिव आए 4 सैंपल एमएलए हॉस्टल में क्वारंटाइन मरीजों के हैं। इसके अलावा 3 सैंपल निजी लैब में पॉजिटिव आए हैं। गुरुवार को पॉजिटिव आए मरीजाें में चंद्रमणिनगर, काटोल, छत्रपति नगर, अमरनगर, आठवां माइल के कई लोग शामिल हैं।

नाईकतालाब बांग्लादेश के 54 मरीज डिस्चार्ज

गुरुवार को डिस्चार्ज हुए 77 मरीजों में 54 मरीज नाईकतालाब बांग्लादेश के हैं। इसके साथ ही मोमिनपुरा के 6 मरीज भी डिस्चार्ज किए गए हैं। डिस्चार्ज होने वाले अन्य मरीजों में भारतनगर, भीमनगर, गांधीबाग, योगेश्वरनगर, लोकमान्य नगर के मरीज शामिल हैं।

मोबाईल एप से मिलेगी अस्पताल के बेड की जानकारी

उधर मुंबई के लोग अब अस्पतालों में आईसीयू बिस्तरों और वेंटिलेटर की उपलब्धता की जानकारी एक मोबाइल ऐप हासिल कर सकेंगे। मुंबई कि महापौर किशोरी पेडनेकर ने 'एयर-वेंटी’ नाम के ऐप को लॉन्च करते हुए कहा कि इससे लोगों को आपात स्थिति में मदद मिलेगी। पेडनेकर ने कहा कि इस ऐप से लोग मुंबई के अस्पतालों में आईसीयू बिस्तरों और वेंटिलेटरों की उपलब्धता की जानकारी हासिल कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि ऐप को शहर के आपदा नियंत्रण कक्ष के डैशबोर्ड से जोड़ा गया है और इसका लिंक मुंबई महानगरपालिका के ऐप के जरिए भी हासिल किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि ऐप को गूगल प्ले स्टोर में जाकर डाउनलोड किया जा सकेगा। 

ड्यूटी पर आने वालों को न रोके हाउसिंग सोसाईटी वाले - सहारिता मंत्री

प्रदेश के सहकारिता मंत्री बालासाहब पाटील ने कहा कि हाउसिंग सोसायटियों की ओर से नौकरी पर जाने वाले रहिवासियों पर रोक लगाना गलत है। उन्होंने कहा कि हाउसिंग सोसायटियों को केंद्र सरकार और राज्य सरकार के आदेश का पालना करना पड़ेगा। गुरुवार को पाटील ने कहा कि राज्य में लॉकडाउन में शिथिलता के बाद विभिन्न कंपनियां और कार्यालय शुरू हो गए हैं। लेकिन हाउसिंग सोसायटियों की ओर से रहिवासियों के सोसायटी से बाहर जाने-आने पर रोक लगाने की शिकायतें मिल रही हैं। मंत्री ने कहा कि इस तरीके से रोक लगाना उचित नहीं है। हाउसिंग सोसायटियां अपने मन से कोई पाबंदी नहीं लगा सकते। हाउसिंग सोसायटी के सचिव को केंद्र सरकार और राज्य सरकार के दिशानिर्देशों का पालना करना पड़ेगा। इससे पहले राज्य सरकार ने हाउसिंग सोसायटियों में अखबार वितरकों को घर तक जाने की अनुमति दी थी। लेकिन मुंबई की कई हाउसिंग सोसायटियां ने अभी भी अखबार वितरकों, दूध विक्रेता, प्लंबर और अन्य जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों के सोसायटी में प्रवेश पर रोक लगाया है।