दैनिक भास्कर हिंदी: सिंगरौली स्थित एनटीपीसी की सबसे पुरानी इकाई ने चालू वित्त वर्ष में अब तक का सर्वाधिक पीएलएफ दर्ज किया

January 9th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। विद्युत मंत्रालय सिंगरौली स्थित एनटीपीसी की सबसे पुरानी इकाई ने चालू वित्त वर्ष में अब तक का सर्वाधिक पीएलएफ दर्ज किया एनटीपीसी लिमिटेड की पहली इकाई, जो 38 साल पहले उत्तर प्रदेश के सिंगरौली में चालू की गई थी, ने अप्रैल 2020 से दिसंबर 2020 के दौरान देश की सभी ताप विद्युत इकाइयों की तुलना में100.24प्रतिशत का उच्चतम प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ) प्राप्त किया है, जो केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए)द्वारा प्रकाशित डेटा से स्पष्ट हुआ है।200 मेगावाट की इकाई 1982 में चालू की गई थी और उच्च पीएलएफ, भारत की सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कंपनी में बेहतरीन परिचालन और रख-रखाव दक्षता का प्रतीक है। इकाई नं. 1द्वारा प्राप्त शानदार उपलब्धि के अलावा,एनटीपीसी की तीन और इकाइयां - सिंगरौली इकाई नं. 4और छत्तीसगढ़ में कोरबा इकाई नं. 1 वनं.2शीर्ष 5प्रदर्शन करने वाली इकाइयों में शामिल हैं। बिजली मंत्रालय के तहत सार्वजनिक उपक्रम एनटीपीसी लिमिटेड द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, एनटीपीसी समूह ने अप्रैल से दिसंबर 2020तक 222.4बिलियन यूनिट (बीयू) का उच्चतम सकल उत्पादन हासिल किया, जो पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 3.8प्रतिशत अधिक है। साथ ही साथ, एनटीपीसी के कोयला-बिजली संयंत्रों ने अप्रैल 2020से दिसंबर 2020तक 92.21प्रतिशत की उच्च उपलब्धता बनाए रखी है, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 87.64प्रतिशत थी। एनटीपीसी के छह प्रमुख संयंत्र- छत्तीसगढ़ में एनटीपीसी कोरबा (2600मेगावाट) और एनटीपीसी सिपत (2980मेगावाट), उत्तर प्रदेश में एनटीपीसी रिहंद (3000मेगावाट), मध्य प्रदेश में एनटीपीसी विंध्याचल (4760मेगावाट), ओडिशा में एनटीपीसी तालचेर थर्मल (460मेगावाट) और एनटीपीसी तालचेर कनिहा (3000मेगावाट) भी देश के शीर्ष 10बेहतर प्रदर्शन करने वाले थर्मल प्लांटों में शामिल हुए हैं। 62.9 गीगावॉट की कुल स्थापित क्षमता के साथ, एनटीपीसी समूह के पास 71पावर स्टेशन हैं, जिनमें24 कोयला, 7 संयुक्त चक्र गैस/तरल ईंधन, 1 जलविद्युत, 14 नवीकरणीय ऊर्जातथा25 सहायक और संयुक्त उद्यम पावर स्टेशन शामिल हैं। समूह के पास20 गीगावॉट की निर्माणाधीन क्षमता है, जिसमें 5 गीगावॉट की नवीकरणीय/जलविद्युत परियोजनाएं शामिल हैं।