comScore

पैसे ने देने पर छोटे भाई ने बहन पर किया चाकू से हमला 

पैसे ने देने पर छोटे भाई ने बहन पर किया चाकू से हमला 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। दो हजार रूपए न देने पर एक 16 वर्षीय छात्र ने अपनी 17 वर्षीय बहन बहन पर चाकू से हमला कर दिया। वारदात ठाणे जिले के अंबरनाथ इलाके की है। लड़की को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। पुलिस ने आरोपी छात्र को हिरासत में लेकर बाल सुधार गृह भेज दिया है। अंबरनाथ के पनवेल नगरी में अपने माता-पिता और भाई के साथ रहने वाली पीड़िता रितु ने अपनी शिकायत में बताया है कि उसने राजस्थान के जयपुर शहर में स्थित कॉलेज में बीफार्मा प्रथमवर्ष में दाखिला लिया है। जल्द ही वह जयपुर जाने की तैयारी कर रही है। इसी बीच शनिवार को ग्यारहवी कक्षा में पढ़ने वाले उसके भाई ने उससे दो हजार रुपए मांगे। लड़के ने बाद में पैसे वापस करने की बात कही लेकिन रितु ने उससे पूछा कि उसे दो हजार रुपए क्यों चाहिए। आरोपी ने रितु से कहा कि उसे पैसे अपने दोस्त को देने हैं। रितु ने कहा कि उसके पास पैसे नहीं है। इसके बावजूद आरोपी काफी देर तक उससे पैसे मांगता रहा इस पर रितु ने उसे फटकार लगाई और पढ़ाई करने को कहा। इसके बाद आरोपी ने थोड़ी देर पढ़ाई की फिर खेलने गया और वापस आकर परिवार के साथ खाना खाया। रात डेढ़ बजे सभी लोग सोने चले गए। इसी बीच रितु ने सुबह साढ़े पांच बजे के करीब महसूस किया कि कोई उसका गला दबाने की कोशिश कर रहा है। उसकी आंख खुली तो कमरे में अंधेरा था और किसी ने उसके मुंह पर हाथ रखा और उसके गले पर चाकू से वार करने की कोशिश की। चीख पुकार के बीच उसके माता पिता कमरे में आए और उन्होंने लाइट जलाई तो सभी हैरान रह गए क्योंकि हमला करने वाला उसका नाबालिग भाई था। इसके बाद आरोपी भाग निकला। सीनियर इंस्पेक्टर एमजे बग्गा ने बताया कि आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 326 के तहत एफआईआर दर्ज कर उसे हिरासत में लेकर बालसुधार गृह भेज दिया गया है। मामले की छानबीन की जा रही है।    
   
छात्र ने परीक्षा से बचने के लिए किया अपहरण का ड्रामा

भूगोल की परीक्षा न देनी पड़े इसलिए एक 13 वर्षीय छात्र ने अपने परिवार वालों को अपहरण की झूठी कहानी सुना दी। परिवार ने बच्चे की कहानी को सच मानते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी। बच्चे ने दावा किया था कि जब वह नमाज पढ़कर घर वापस आ रहा था घाटकोपर में ऑटोरिक्शा में बैठे कुछ लोगों ने उसे अगवा कर लिया। लेकिन उनमें से एक का मोबाइल फोन नीचे गिर गया वह उसे उठाने नीचे उतरा तो बच्चा मौका देखकर भाग निकला। मामले की छानबीन में जुटी सहार पुलिस को वारदात के कोई सबूत नहीं मिले। इसके बाद बच्चे से पूछताछ की गई तो उसने सच्चाई स्वीकार कर ली। उसने बताया कि भूगोल की परीक्षा में कम नंबर आने पर उसे परिवार से डांट पड़ने का डर था इसलिए उसने एक दोस्त की सलाह पर यह फर्जी कहानी गढ़ी थी जिससे उसे परीक्षा न देनी पड़े।    
 

कमेंट करें
a0p2i