दैनिक भास्कर हिंदी: ट्रैक्टर पलटने से युवक की मौत, युवती को सिखा रहा था ड्राइविंग

July 23rd, 2018

डिजिटल डेस्क, शहडोल। ग्रामीण युवक को युवती को ट्रेक्टर चलाना सिखाना जानलेवा साबित हुआ। सिखाते समय ट्रेक्टर अनियंत्रित होकर नाले में जा गिरा, जिससे चालक की मौत हो गई, जबकि लड़की गंभीर रूप से घायल हो गई, जिसे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। यह घटना सोहागपुर थानांतर्गत ग्राम जमुई में क्रेशर के पास हुई।

बघेल ढाबा के पीछे क्रेशर संचालक विपेंद्र सिंह के यहां जमुई निवासी विफैइंया बैगा ट्रेक्टर चलाने का काम करता है। गत सुबह करीब 11 बजे वह बिना ट्राली के ट्रेक्टर एमपी 18 एए 6592 को लेकर घर से निकला। उसके साथ पड़ोस की भोको कोल नामक लड़की भी बैठी थी। लोगों ने बताया कि वह लड़की को ट्रेक्टर चलाना सिखा रहा था। इसी बीच क्रेशर के पास वाहन अनियंत्रित हो गया और वहीं नाले में जा गिरा। दोनों इंजन में दब गए। स्थानीय लोग जब तक बाहर निकालते विफैइंया की मौत हो चुकी थी। घायल लड़की को जिला चिकित्सालय लाकर भर्ती कराया गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौका पंचनामा बनाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मर्ग कायम कर मामले की जांच की जा रही है।

बारिश के पानी में बह गई पुलिया की फेसवाल
गोहपारू पंचायत अंतर्गत रीवा रोड से लमता डोंगरी के लिए बनी ग्रेवल रोड में पुलिया का निर्माण चल रहा है। पुलिया में इतनी घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा है कि बारिश में यह बह गया। अधिकारियों ने इसे दोबारा बनाने के लिए कहा है। अधिकारियों के मुताबिक यह 2014-15 का प्रस्ताव है। यहां करीब 700 मीटर की ग्रेवल रोड बनी है। इसमें एक-एक लाख रुपए की लागत से दो पुलिया का निर्माण भी होना था। पुलिया के लिए ग्राम पंचायत गोहपारू के सरपंच-सचिव ने 2014-15 में ही 84 हजार रुपए निकाल लिए थे, लेकिन पुलिया का निर्माण नहीं कराया था। अब पंचायत की ओर से सड़क में पुलिया बनवाई जा रही है।

जानकारी के मुताबिक पुलिया में फाउंडेशन का काम पहले ही हो चुका था। अब केवल फेसवाल और पाइप डलनी है। पंचायत की ओर से बनाई जा रही पुलिया में पाइप लगाने के बाद दोनों ओर तैयार की जा रही फेसवाल में निम्न स्तर की निर्माण सामग्री का इस्तेमाल हो रहा है। कांक्रीट का मसाला बनाने की बजाय सिर्फ गिटटी, रेत में सीमेंट का छिड़काव कर इसे बनाया जा रहा है। पिछले दिनों हुई बारिश में सड़क सहित आधी फेसवाल बह गई है। हैरानी की बात यह है कि गोहपारू जनपद मुख्यालय से लगा होने के बाद भी अधिकारियों का ध्यान इस ओर नहीं है। ग्रेवल रोड और पुलिया की कुल लागत करीब 10 लाख रुपए है।