दैनिक भास्कर हिंदी: स्टेशनों पर बिकेगा सिर्फ मिनरल वॉटर रेल नीर, मनमाने ब्रांड बेचकर ठेकेदार पीट रहे चांदी

May 18th, 2019

डिजिटल डेस्क,जबलपुर। रेल मंत्रालय और रेलवे बोर्ड ने 30 मार्च 2019 को देश के सभी  जोन को आदेश जारी कर कहा कि आज से सभी रेलवे स्टेशन के फूड स्टॉल्स पर केवल पैकेज्ड मिनरल वॉटर ब्रांड रेल नीर ही बिकेगा। आदेश के करीब डेढ़ महीने बाद जब जबलपुर मंडल के डीसीएम अपनी टीम के साथ जबलपुर सहित कटनी, रीवा और सतना का निरीक्षण कर रेल नीर की बिक्री की हकीकत जानने निकले तो उन्हें किसी भी रेलवे स्टेशन पर एक बोतल रेल नीर नहीं मिला। आखिरकार वाणिज्य विभाग ने सभी कैटरिंग, एवीएम और मिल्क बूथ लाइसेंसी को नोटिस जारी कर साफ चेतावनी देते हुए कहा है कि अब से रेलवे स्टेशन के स्टॉल्स पर सिर्फ रेल नीर ही बिकेगा, यदि और कोई दूसरा लोकल ब्रांड बेचने की कोशिश की तो ठेकेदारों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। रेल मंत्रालय और रेलवे बोर्ड ने के आदेश की धज्जियां पश्चिम मध्य रेलवे के मुख्यालय जबलपुर के मुख्य रेलवे स्टेशन पर कैटरिंग ठेकेदार उड़ा रहे हैं। 

रेल मंत्रालय ने 30 मार्च 2019 को सभी जोनल रेलवे के प्रिंसिपल चीफ कॉमर्शियल मैनेजर्स के लिए आदेश जारी कर कहा है कि आईआरसीटीसी की अनुग्रह पर देश के सभी रेलवे स्टेशन के फूड स्टॉल्स पर पैकेज्ड मिनरल वॉटर ब्रांड रेल नीर को ही बेचा जाए, ताकि यात्रियों को शुद्ध और भरोसमंद पीने का बोतलबंद पानी मिल सके, इस आदेश के आने के बाद जबलपुर में वाणिज्य विभाग द्वारा जबलपुर, कटनी, सतना और रीवा रेलवे स्टेशन के ठेकेदारों को फूड स्टॉल्स पर अन्य मिनरल वॉटर ब्रांड को बेचना बंद कर केवल रेल नीर बेचने के निर्देश जारी कर दिए थे लेकिन लगभग डेढ़ महीने बीत जाने के बाद भी इन रेलवे स्टेशंस पर रेल नीर बेचना ठेकेदारों ने शुरु नहीं किया है, जिसके पीछे ये बात सामने आ रही है कि रेल नीर को बेचने में ठेकेदारों को कम कमीशन मिल रहा है जबकि अन्य लोकल पैकेज्ड मिनरल वॉटर ब्रांड बेचने पर उन्हें मनमर्जी को कमीशन मिल रहा है इसलिए ठेकेदार मुनाफा कमाने के चक्कर में रेल मंत्रालय और रेलवे बोर्ड के आदेश को दिलेरी से ठेंगा दिखा रहे हैं।

रेल नीर की एक बोतल न मिली, धड़ल्ले से बिक रहा था लोकल मिनरल वॉटर ब्रांड 
रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार रेल मंत्रालय और रेलवे बोर्ड के आदेश का पालन रेलवे के ठेकेदार कर रहे हैं या नहीं, इसकी हकीकत जानने के लिए 9 मई 2019 को डीसीएम देवेश सोनी ने अपनी टीम के साथ जबलपुर, कटनी, रीवा और सतना रेलवे स्टेशंस का निरीक्षण किया और वो ये देखकर चौंक गए कि किसी भी रेलवे स्टेशन के फूड स्टॉल्स पर रेल नीर की बोतलें गायब थीं, जबकि ठेकेदारों द्वारा धड़ल्ले से रेलवे द्वारा प्रतिबंधित पैकेज्ड मिनरल वॉटर ब्रांड को बेचा जा रहा था। इस दौरान निरीक्षण दल ने प्रतिबंधित लोकल ब्रांड की पानी की बोतलों को जब्त करने की भी कार्रवाई की थी।

आईआरसीटीसी स्टाफ के साथ सप्लाई को लेकर बैठक की
सूत्रों का कहना है कि वाणिज्य विभाग के अधिकारियों ने जबलपुर आने के बाद आईआरसीटीसी के स्टाफ के साथ बैठक कर रेल नीर की सप्लाई को लेकर लंबी चर्चा की थी, जिसमें आईआरसीटीसी के स्टाफ ने उन्हें आश्वस्त किया था कि रेल नीर का भरपूर स्टॉक आ रहा है, जिसकी सप्लाई में कोई कमी नहीं है लेकिन रेलवे के ठेकेदार मुनाफा कमाने के चक्कर में रेल नीर को बेचने की बजाए लोकल पैकेज्ड मिनरल वॉटर ब्रांड बेच रहे हैं।

रेल मंत्रालय का ये है आदेश
- देश के सभी रेलवे स्टेशन पर पूरे साल केवल रेल नीर को बेचा जाए।
- मेल और एक्सप्रेस की पेंट्री कार से भी केवल रेल नीर की सप्लाई हो।
- अन्य ट्रेनों में भी स्टेशन काउंटर से रेल नीर की ही सप्लाई की जाए।
 

खबरें और भी हैं...