दैनिक भास्कर हिंदी: नाणार परियोजना के विरोध में विपक्ष का हंगामा, किसानों की मांगों को लेकर किया प्रदर्शन

July 12th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नाणार परियोजना रद्द करने की मांग को लेकर गुरुवार को विपक्ष ने विधानभवन में  सरकार के विरोध में प्रदर्शन कर नारे लगाए। प्रकल्प का विरोध करते हुए कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस के विधायकों ने आक्रामक रूक अपनाया और सरकार से इसे रद्द करने की मांग की। विधायकों ने सरकार से किसानों की मांगों की ओर भी ध्यान आकर्षित किया। मांग की गई कि किसानों को फसल नुकसान का मुआवजा दिया जाए, बोंडअल्ली से जिन किसानों की फसल बर्बाद हुई है उन किसानों को भी शीघ्र राहत दी जाए।

विपक्ष ने सभा शुरू होते ही मांगों को लेकर हंगामा करना शुरू कर दिया जिससे कामकाज प्रभावित रहा।  आंदोलन में अजित पवार, जयंत पाटील, धनंजय मुंडे, शशिकांत शिंदे, राजेश टोपे, विजय भांबले, वैभव पिचड़, विक्रम काले सहित कांग्रेस से राधाकृष्ण विखे पाटील, पृथ्वीराज चव्हाण सिहत सभी विधायक प्रमुखता से शामिल हुए। उल्लेखनीय है कि बुधवार को इस प्रकल्प के विरोध में भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने भी हंगामा किया था।शिवसेना ने विपक्ष की इस मांग का समर्थन करते हुए प्रकल्प रद्द करने की मांग की।

क्या है नाणार परियोजना
उल्लेखनीय है कि कोंकण के देवगड़ के पास नाणार में सरकार ने मेगा आॅयल रिफायनरी परियोजना प्रस्तावित की है। दावा है कि इस परियोजना में ढाई से तीन लाख करोड़ का निवेश होगा। तीनों तेल कंपनियां भारत पेट्रोलियम, इंडियन आॅयल व हिंदुस्तान पेट्रोलियम एकत्रित होंगे। इस परियोजना का विपक्ष सहित सत्ता में शामिल शिवसेना व अन्य संगठनों ने इस परियाेजना को नाणार में लगाने का विरोध किया है।

कहा गया है कि समुद्र से लगे क्षेत्र की जिस जमीन पर यह परियोजना प्रस्तावित है वह काफी उपजाऊ व महंगी है। परियोजना लगाने से कई किसान परिवार बर्बाद हो जाएंगे। इस परियोजना को नागपुर जिले में लगाने की मांग भाजपा विधायक आशीष देशमुख ने की है। देशमुख के अनुसार नाणार परियोजना यदि विदर्भ में लाई जाती है तो यहां के युवाओं को रोजगार के साधन उपलब्ध होंगे। शिवसेना ने देशमुख की मांग का समर्थन किया है।