दैनिक भास्कर हिंदी: भूख-प्यास से तड़पे पवन एक्सप्रेस के यात्रियों ने किया हंगामा, नहीं हुई सुनवाई

June 6th, 2019

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। घंटों देरी से चल रही पवन एक्सप्रेस के यात्रियों के सब्र का बांध उस समय टूट गया जब घंटों की देरी से चल रही ट्रेन को करीब डेढ़ घंटे तक आउटर में खड़ा कर दिया गया। लू के थपेड़े, भूखे और प्यास से मछली की तरह तड़प रहे यात्री ट्रेन से नीचे उतर आए और प्रदर्शन करने लगे। पवन एक्सप्रेस से नरसिंहपुर जा रहे यात्रियों शिवम खरे, आनंद तिवारी, सुरभि शुक्ला, नितिन मर्सकोले आदि ने बताया कि जबलपुर रेलवे स्टेशन से रवाना होने के कारण ट्रेन के यात्रियों की शामत आ गई। जबलपुर से नरसिंहपुर तक का डेढ़ घंटे का सफर 5.30 घण्टे में पूरा हुआ। उन्होंने बताया कि जबलपुर से ट्रेन सुबह करीब 11 बजे रवाना हुईं। उसके बाद हर स्टेशन ट्रेन को 20 मिनट से अधिक रोक कर रखा गया।
करकबेल स्टेशन के पास ट्रेन करीब 1.30 घण्टे रुकी रही। गर्मी में यत्रियों, खासतौर पर मासूम बच्चों और बुजुर्गों का बुरा हाल हो गया। घंटों की देरी और चींटी की रफ्तार से चल रही ट्रेन की हालत से परेशान यात्रियों ने जमकर हंगामा मचाया, जिसे सुनकर रेलवे का स्टाफ तो आया लेकिन उन्होंने ये कहकर पल्ला झाड़ लिया कि लाइन क्लियर नहीं मिल रही है, ऐसे में वो क्या करें। यात्रियों ने बताया कि ट्रेन की लेटलतीफी की वजह से कई कोचों में पानी खत्म हो गया था और आउटर पर खड़े किए जाने की वजह से पीने का पानी भी यात्रियों को नहीं मिल पाया। टॉयलेट में भी पानी नहीं था।
 

चेन पुलिंग करने वाले 5 यात्रियों को आरपीएफ ने पकड़ा

रेलवे प्लेटफॉर्म से ट्रेन रवाना होने के ठीक बाद स्टेशन पर पहुंचने वाले दोस्तों के लिए चेनपुलिंग करने वाले 5 यात्रियों को उनकी हरकत उस समय महंगी पड़ गई जब आरपीएफ ने उन्हें पकड़ लिया और पोस्ट में लाने के बाद उनपर प्रकरण दर्ज कर लिया। अब उन्हें जेल भेजा जाएगा। आरपीएफ पोस्ट प्रभारी वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि गर्मी के सीजन में चेन पुलिंग करने वालों को पकडऩे का अभियान चलाया जा रहा है, ताकि चेन पुलिंग की वजह से ट्रेन लेट न हो और यात्रियों को किसी प्रकार की परेशानी न हो सके। इसी कड़ी में  सोमनाथ एक्सप्रेस, बागमती एक्सप्रेस, पवन एक्सप्रेस सहित 5 ट्रेनों में चेन पुलिंग करने वाले यात्रियों को मौके पर ही दबोच लिया गया। हालांकि उन्होंने चेन खींचकर ट्रेन को रोकने के पीछे अपने साथियों और परिजनों की ट्रेन छूटने का बहाना बनाया लेकिन जब आरपीएफ ने कहा कि किसी एक यात्री की सुविधा के लिए सैकड़ों यात्रियों को परेशानी होती है तो सभी चुप हो गए। चेन पुलिंग करने वाले पांचों यात्रियों को अब रेल न्यायालय में पेश किया जाएगा। जहां से उन्हें जेल भेजा जाएगा।
 

खबरें और भी हैं...