दैनिक भास्कर हिंदी: प्रधानमंत्री फसल योजना के लिए अवधि अब 31 जुलाई तक करें आवेदन, किसानों को 100 करोड़ का चूना लगाने वाला गिरोह गिरफ्तार

July 29th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। खरीफ फसलों के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में किसानों के सहभागी होने के लिए समयावधि बढ़ा दी गई है। फसल बीमा के लिए किसान अब 31 जुलाई तक आवेदन कर सकेंगे। सोमवार को प्रदेश सरकार के कृषि विभाग ने इस संबंध में शासनादेश जारी किया। इसके मुताबिक किसानों को योजना में शामिल होने के लिए तकनीकी अड़चनों के कारण अवधि बढ़ाई गई है। सरकार ने 23 मई को फसल बीमा योजना लागू करने को मंजूरी दी थी। इस योजना में शामिल होने के लिए 24 जुलाई आखिरी तारीख थी। जिसको बढ़ाकर 29 जुलाई किया गया था। अब सरकार ने दूसरी बार समयावधि बढ़ा कर 31 जुलाई 2019 की है।  

किसानों को 100 करोड़ का चूना लगाने वाला गिरोह गिरफ्तार

ठाणे पुलिस ने महाराष्ट्र और कर्नाटक के सैकड़ों काजू और फल उत्पादक किसानों को 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का चूना लगाने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। मामले में नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार आरोपियों के पास से पुलिस ने 2234 काजू के डिब्बे और 58 लाख नकद समेत दो करोड़ 20 लाख रुपए से ज्यादा का माल जब्त किया है। छानबीन में खुलासा हुआ है कि आरोपियों ने राज्य के दूसरे इलाकों के साथ-साथ नागपुर के संतरा उत्पादक किसानों से भी ठगी की है। पुलिस आयुक्त विवेक फणसलकर ने बताया कि आरोपियों ने सांगली व नाशिक के अंगूर उत्पाद, जलगांव के केला उत्पादक, नागपुर के संतरा उत्पादक और कोकण व कोल्हापुर के काजू उत्पादक किसानों से माल खरीदने का सौदा करते और बिना भुगतान किए माल लेकर फरार हो जाते थे। मामले में कोल्हापुर के किसान शौकतअली मुजावर ने शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने कापुरबावडी पुलिस स्टेशन में अष्टविनायक ट्रेडिंग कंपनी के मालिकों दीपक कुमार पटेल उर्फ अमित कुमार असनानी, सुमित कुमार असनानी उर्फ महेश ज्ञानचंदानी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। आरोपी मुजावर से 19 लाख रुपए का फल लेकर भुगतान किए बिना फरार हो गए थे। मामले की समानांतर जांच में जुटी अपराध शाखा की टीम ने दोनों आरोपियों को गुजरात से दबोच लिया। इसके बाद पूछताछ में आरोपियों के सात और साथियों के नाम सामने आए। पुलिस ने उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के पास से पुलिस ने 2234 काजू के डिब्बे जब्त किए जिसकी कीमत 2 करोड़ 20 लाख रुपए से ज्यादा है। साथ ही 58 लाख रुपए नकद, लैपटॉप, फर्जी आधार कार्ड, पैनकार्ड और बोलेरो कार भी बरामद हुई है। आरोपियों के खिलाफ फिलहाल कोल्हापुर और कर्नाटक के बेलगांव जिले के 606 किसानों से ठगी के मामले में चार शिकायतें दर्ज होने का खुलासा हुआ है। आरोपियों ने वास्तव में कितने किसानों को चूना लगाया है पुलिस इसकी छानबीन कर रही है।