comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जबलपुर से चलेगी पितृपक्ष स्पेशल ट्रेन - एक अन्य ट्रेन कटनी होकर गुजरेगी

September 07th, 2019 18:59 IST
जबलपुर से चलेगी पितृपक्ष स्पेशल ट्रेन - एक अन्य ट्रेन कटनी होकर गुजरेगी

डिजिटल डेस्क जबलपुर। यात्रियों की मांग पर आखिरकार रेल प्रशासन ने पितृपक्ष के दौरान गयाजी के लिए जबलपुर से गयाजी तक पितृपक्ष स्पेशलट्रेन चलाने की घोषणा कर दी है, जिससे पिंडदान करने जाने वाले यात्रियों ने राहत की सांस ली है। पमरे की मुख्य जनसंपर्क अधिकारी प्रियंका दीक्षित ने बताया कि पिंडदान करने वाले यात्रियों की मांग को ध्यान में रखते हुए जबलपुर से गया तक पितृपक्ष स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है। गाड़ी संख्या 0711 जबलपुर गया स्पेशल 14, 19 और 24 सितम्बर को चलेगी, जो 8.10 बजे जबलपुर से रवाना होगी, जो कटनी, मैहर, सतना, मानिकपुर, छिवकी, मिर्जापुर, मुगलसराय, सासाराम, डेहरी-ओन-सोन, अनुग्रह नारायण रोड होते हुए गया जी 10 बजे पहुंचेगी। वहीं गाड़ी संख्या 0172 गया से 13,18, 23 और 28 सितम्बर को चलेगी, जो गया जी से चलकर 6.25 बजे जबलपुर स्टेशन पहुंचेग। उन्होंने ने बताया कि यात्रियों की सुविधा के लिए एक और पितृपक्ष स्पेशल ट्रेन हबीबगंज स्टेशन से चलेगी, जो कटनी स्टेशन होकर गुजरेगी।  यात्रियों के लिए गाड़ी संख्या 0165 हबीबगंज गया स्पेशल 12,17,22 और 27 सितम्बर को हबीगंज से चलेगी, जो हबीबगंज स्टेशन से 2.35 बजे रवाना होगी और विदिशा, बीना, सागर, दमोह, कटनी, मैहर, सतना, मिर्जापुर, छिवकी, मुगलसराय, सासाराम, डेहरी-ओन-सोन, अनुग्रह नारायण रोड होते हुए गया जी 10 बजे पहुंचेगी। वापसी में यह स्पेशल ट्रेन गयाजी से 5.10 बजे चलेगी और 12.20 बजे हबीबगंज पहुंचेगी।
8 सितम्बर को रदद रहेगी जबलपुर मंडुआडीह एक्सप्रेस
 8 सितम्बर को जबलपुर मंडुआडीह एक्सप्रेस को रेल प्रशासन ने रदद कर दिया है। रेल प्रशासन के अनुसार वाराणसी इलाहाबाद रेलखंड पर चल रहे नॉन-इंटरलॉकिंग वर्क की वजह से आज 7 सिम्बर को मंडुआडीह जबलपुर एक्सप्रेस जबलपुर नहीं आएगी, इसलिए 8 सितम्बर को जबलपुर मंडुआडीह एक्सप्रेस रदद रहेगी। इसके अलावा पमरे से गुजरने वाली सिकंदराबाद दानापुर एक्सप्रेस को 6 और 7 सितम्बर, दानापुर सिंकदराबाद एक्सप्रेस को 7 और 8 सितम्बर, उधना दानापुर एक्सप्रेस 7 सितम्बर और दानापुर उधना एक्सप्रेस को 8 सितम्बर को रदद कर परिवर्तित मार्ग से चलाया जा रहा है।

कमेंट करें
7i2ne
कमेंट पढ़े
Mukesh Kori September 22nd, 2019 10:36 IST

ok sab theekh me

Mukesh Kori September 22nd, 2019 10:35 IST

thanks for your

Mukesh Kori September 22nd, 2019 10:35 IST

thanks for your

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।