दैनिक भास्कर हिंदी: राज ठाकरे बोले- नोटबंदी की तरह फंड जुटाने के लिए लिया गया प्लॉस्टिक बैन का फैसला

June 26th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने प्रदेश सरकार के प्लॉस्टिक पाबंदी के फैसले को केंद्र सरकार के नोटबंदी के निर्णय की तरह बताया है। उन्होंने कहा है कि प्लॉस्टिक पाबंदी का फैसला चुनावी फंड जुटाने के लिए किया गया है। मेरी जानकारी के अनुसार प्लॉस्टिक के व्यापारियों से आगामी चुनावों के लिए फंड मांगा गया था। मंगलवार को राज ने प्लॉस्टिक पाबंदी के फैसले पर पार्टी की भूमिका स्पष्ट की। पत्रकारों से बातचीत में राज ने कहा, 'मेरा प्लॉस्टिक पाबंदी के नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ की जा रही 5 हजार रुपए का जुर्माना लगाए जाने पर विरोध है। लोगों को 5 हजार रुपए का दंड नहीं देना चाहिए। जुर्माना वसलूने के लिए आए अधिकारियों से लोगों को पूछना चाहिए कि सरकार और समय क्यों नहीं देती।' राज ने कहा कि पहले सभी मनपा कचरे को लेकर उचित प्रबंध करे। उसके बाद सरकार दंड वसूलने की कार्रवाई करे।

मनसे अध्यक्ष ने कहा कि प्लॉस्टिक पाबंदी को लेकर सरकार ने पहले तैयार नहीं की। सरकार ने प्लॉस्टिक पाबंदी का अभी तक विकल्प नहीं दिया है। सरकार और सभी मनपा को अपने क्षेत्र में पहले कचरे की पेटी की व्यवस्था करनी चाहिए। राज ने कहा कि प्लॉस्टिक पाबंदी के फैसले को लेकर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का एक भी बयान नहीं आया है। मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि यह सरकार का फैसला है कि केवल पर्यावरण विभाग के मंत्री रामदास कदम का निर्णय है। राज ने कदम पर निशाना साधते हुए कहा कि एक व्यक्ति को आया हुआ झटका प्रदेश और देश की नीति नहीं हो सकती है। राज ने कहा कि प्रदेश सरकार और मुंबई मनपा अपना काम बेहतर तरीके से नहीं कर रही है और लोगों से दंड वसूला जा रहा है। मैं पूछना चाहता हूं कि गैरकानूनी तरीके से बनाई गई  झोपड़पट्टियों से कितना दंड वसूला जा रहा है। राज ने कहा कि पता नहीं प्लॉस्टिक पाबंदी के फैसले को लागू करने की इतनी जल्दबाजी क्यों थी। राज ने कहा कि राज्य के पर्यावरण मंत्री रामदास कदम ने राज्य की नदियों की साफ- सफाई करने की घोषणा की थी। औद्योगिक कचरे के निपटान के बारे में कदम उठाने का ऐलान किया था लेकिन उन सभी घोषणाओं का क्या हुआ?

मैंने फैसले के बारे में बोला है रिश्तों पर नहीं 

राज ने कहा कि मेरा प्लॉस्टिक पाबंदी का मुद्दा सरकार से जुड़ा है न कि किसी के रिश्ते से। मंत्री कदम को इसे रिश्ते से नहीं जोड़ना चाहिए जिससे दो परिवारों (राज और उद्धव) के बीच और विवाद बढ़े। मंत्री के रूप में कदम ने क्या किया है और क्या करने वाले हैं। वह इसकी जानकारी सभी को दें। इससे पहले कदम ने कहा था कि क्या चाचा (राज) को अपने भतीजे (आदित्य ठाकरे) से डर लगने लगा है?

केवल छाती पर पैंट पहनने से कुछ नहीं होता 

राज ठाकरे ने मंत्री कदम के कपड़े पहनने के तरीके पर भी मजाक उड़ाया। उन्होंने कहा कि कदम कमर के बजाय छाती पर पैंट पहनते हैं। उनके शर्ट की जेब पैंट के अंदर होती है। केवल छाती पर पैंट पहनने से कुछ नहीं होता है।

स्वच्छ भारत के नाम पर केवल टैक्स वसूला गया

राज ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का स्वच्छ भारत अभियान असफल है। स्वच्छ भारत के नाम पर केवल टैक्स वसूला गया। उन्होंने कहा कि मोदी अब तक अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी की नदियों को साफ नहीं करा पाए हैं।

शाह पर चुप्पी, मराठे पर कार्रवाई 

राज ने कहा कि नोटबंदी के समय जिला सहकारी बैंक में अधिक पैसे जमा कराने के मामले में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर कोई कार्रवाई नहीं होगी लेकिन महाराष्ट्र में बैंक ऑफ महाराष्ट्र के सीईओ रवींद्र मराठे के खिलाफ सरकार ने कार्रवाई की है। इस मामले पर मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि मुझे कोई जानकारी नहीं है। राज ने कहा कि मेरे पास पर्याप्त सबूत नहीं है लेकिन प्रदेश सरकार ने बैंक ऑफ महाराष्ट्र को बंद करके उसका विलय बैंक ऑफ बड़ौदा में करने के फिराक में है।