comScore

चोरी का सोना सर्राफा व्यापारी को बेचकर फरार हुए आरोपियों को पुलिस ने हैदराबाद से पकड़ा

चोरी का सोना सर्राफा व्यापारी को बेचकर फरार हुए आरोपियों को पुलिस ने हैदराबाद से पकड़ा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। हैदराबाद से गिरफ्तार कर लाए गए  शातिर चोरों ने पूछताछ में हुड़केश्वर और कलमना थाना क्षेत्र में हुई आठ चोरियों का पर्दाफाश हुआ है। पूछताछ के बाद पुलिस ने सर्राफा व्यापारी से चोरी का माल जब्त किया है। म्हालगी नगर निवासी राजेश नंदकिशोर सुलभेवार (38) के घर में 6 अप्रैल 2019 को चोरी हुई थी। घटना के दिन सुलभेवार परिवार महल में खरीदी करने गया हुआ था।

चोरों ने नकदी समेत करीब ढाई लाख रुपए के माल पर हाथ साफ किया था। प्रकरण हुड़केश्वर थाने में दर्ज कराया गया था। जांच के दौरान अपराध शाखा की यूनिट क्र.-5 के दस्ते को गुप्त जानकारी मिली कि, चोरी में कपिल ईश्वर मस्करे (24), शुभम महेंद्र मराठे (22) और मनोज रामाधर लिल्हारे (34), तीनों डिप्टी सिग्नल निवासी लिप्त हैं। पुलिस ने उनके घरों में दबिश दी। वहां शुभम पुलिस के हाथ लगा। इस बीच कपिल और मनोज को शुभम के गिरफ्तार होने की भनक लग गई। वे पुलिस के डर से हैदराबाद भाग गए। पुलिस ने शुभम से मनोज और कपिल का मोबाइल नंबर लिया। साइबर सेल की मदद से दोनों का लोकेशन खांगाला। इसके बाद पुलिस दल हैदराबाद रवाना हुआ। 17 तारीख को हैदराबाद से कपिल और मनोज को गिरफ्तार कर लाया गया।

अदालत में पेश कर तीनों आरोपियों को रिमांड में लिया गया है।  आरोपियों ने राजेश के घर में भी चोरी करने की बात कबूल की है। तीनों आरोपी शातिर चोर हैं। विविध थानों में दर्जन भर से भी ज्यादा चोरी के मामले उनके खिलाफ दर्ज हैं। शुभम को वाहन चोरी में महारत हासिल है। इसके पहले उसके कब्जे से चोरी के लगभग 35 वाहन जब्त किए जा चुके हैं। ताजा मामलों में आरोपियों ने चोरी का सोना सर्राफा व्यापारी प्रवीण बाराहाते, भगवान नगर निवासी को बेचा था। पुलिस ने प्रवीण से 15 तोला सोना और डेढ़ किलो चांदी जब्त की है। प्रकरण में प्रवीण को भी सह-आरोपी बनाए जाने के संकेत मिले हैं। इस बीच पीसीआर की अवधि खत्म होने पर सोमवार को आरोपियों को अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आराेपियों को जेल भेज दिया है। निरीक्षक विनोद पाटील, उप-निरीक्षक ओमप्रकाश भलावी, एएसआई श्रीनिवास मिश्रा, सुनील चौधरी, उमेश खोब्रागड़े, रवींद्र राऊत आदि ने कार्रवाई में हिस्सा लिया।  

हैदराबाद में करने लगे  थे मजदूरी 

हैदराबाद भागने के बाद आरोपियों ने वहां किराए का कमरा लिया था और निर्माणाधीन स्थान पर मजदूरी करने लगे थे। उन्हें कार्य स्थल से पुलिस ने गिरफ्तार किया व नागपुर लेकर आयी। 

कमेंट करें
piQWT