दैनिक भास्कर हिंदी: पुलिसवाला बनकर नागपुर के शख्स ने मुंबई में लगाया लाखों का चूना, एमपी का रहने वाला साथी भी धराया

July 13th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। पालघर पुलिस ने नागपुर के एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है, जिसने खुद को पुलिसवाला बताकर जिले में लूटपाट और ठगी की 15 वारदातें अंजाम दी है। आरोपी के एक साथी को मध्यप्रदेश से गिरफ्तार किया गया है जो कई वारदातों में शामिल रहा है। आरोपियों के पास से पुलिस ने साढ़े 12 लाख रुपए का लोगों से लूटा गया सामान भी बरामद किया है। गिरफ्तार मुख्य आरोपी का नाम फिरोज एहसान अली है। वह नागपुर जिले के काटोल इलाके में स्थित सरस्वती नगर चौबे ले आऊट का रहने वाला है। पुलिस के मुताबिक अली ने पालघर जिले के वसई, नालासोपारा, विरार, बोइसर, डहाणू, सातपाटी, वाडा जैसे इलाकों में ठगी की कई वारदातें की हैं। मामले में गिरफ्तार दूसरे आरोपी का नाम जमाल यूसुफ सैयद अली है, वह मध्य प्रदेश के होशांगाबाद का रहने वाला है।

लूटपाट और ठगी की 24 वारदातें सुलझाने में सफलता

दोनों आरोपियों से पूछताछ के बाद पुलिस ने लूटपाट और ठगी की 24 वारदातें सुलझाने में सफलता हासिल की है। आरोपियों के पास से पुलिस ने लोगों से ठगे गए 410 ग्राम सोने के गहने बरामद किए हैं जिसकी कीमत 12 लाख 54 हजार रुपए है। पालघर के पुलिस अधीक्षक मंजूनाथ शिंगे ने बताया इलाके में ठगी की लगातार हो रही वारदातों के मद्देनजर आरोपियों को पकड़ने के लिए विशेष टीम बनाई गई थी। सभी वारदातों की छानबीन इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों और खबरियों के नेटवर्क की मदद से आरोपियों की पहचान कर ली गई। इसके बाद पुलिस की टीम ने नागपुर, अकोला, दिल्ली, मध्य प्रदेश जाकर पुलिस की टीम ने दबिश दी और आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाब रही।

खुद को पुलिस वाला बताकर ठगी

आरोपी अक्सर बुजुर्गों और महिलाओं को निशाना बनाते थे। खुद को पुलिसकर्मी बताते हुए आरोपी दावा करते थे कि आगे दंगे हो रहे हैं। अपने पास मौजूद गहनों को जेब में रख लो। शिकार से गहने निकलवाकर आरोपी झांसा देकर गहने ले लेते और उन्हें खाली रुमाल देकर भेज देते। इसके अलावा मेरे सेठ को लड़का हुआ है लोगों को सामान दे रहा है जैसा झांसा भी आरोपियों ने कई लोगों को दिया था। पुलिस के मुताबिक आरोपी चेन झपटमारी की वारदातों में भी लिप्त थे।