दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र में तेजी से बढ़ रहा पोल्यूशन, 17 शहरों के साथ नागपुर के हालात बिगड़े, NGT ने लगाई फटकार

March 28th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। महाराष्ट्र में तेजी से एयर पोल्यूशन बढ़ रहा है इस पर नियंत्रण के लिए ठोस कार्य योजना तैयार करने में लेटलतीफी दिखा रहे महाराष्ट्र को कड़ी फटकार लगाते हुए एनजीटी ने कहा है एक माह में एक्शन प्लान जमा करें, वर्ना एक करोड़ रुपए जुर्माना भरें। महाराष्ट्र में देश के राज्यों में सबसे ज्यादा 17 ऐसे शहर हैं, जहां एयर पोल्यूशन राष्ट्रीय मानक से अधिक है। उन 17 प्रदूषित शहरों में नागपुर भी शामिल है। एनजीटी ने 31 दिसंबर 2018 को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर देश के 102 नॉन अटेंमेंट शहरों की सूची जारी किए जाने के बाद उन शहरों के लिए विशेष रूप से एक्शन प्लान तैयार किए जाने का निर्देश जारी किया था। इसके बावजूद महाराष्ट्र समेत छह राज्यों ने अब तक प्लान संबंधी प्रस्ताव प्राधिकरण को नहीं सौंपा।

पिछले वर्ष अगस्त में ग्रीनपीस की ओर से आरटीआई के तहत मांगी गई जानकारी के अनुसार, राज्य इन शहरों में प्रदूषण कम करने को लेकर कोई खास योजना नहीं की गई थी। यहां तक कि मुंबई, पुणे, अमरावती, औरंगाबाद, जालना, कोल्हापुर और लातूर की ओर से तैयार किए गए एक्शन प्लान अस्वीकृत कर दिए गए थे।  

राज्य के 102 नॉन अटेंमेंट शहर
एयर पोल्यूशन के मामले में राज्य के प्रदूषित शहरों की सूची में नागपुर समेत विदर्भ के अकोला, अमरावती, चंद्रपुर भी शामिल हैं। अन्य प्रदूषित शहरों में मुंबई, औरंगाबाद, जलगांव, लातूर, पुणे, नाशिक, सांगली, शोलापुर, नवी मुंबई, कोल्हापुर, उल्हासनगर, बदलापुर शामिल हैं। 

क्या है नॉन अटेंमेंट 
नॉन अटेंमेंट शहर वैसे शहर हैं, जहां प्रदूषण राष्ट्रीय स्तर पर तैयार मानक से ज्यादा है। पर्यावरण मंत्रालय की ओर जारी नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम के तहत मानक से अधिक प्रदूषण वाले शहरों की सूची जारी की गई थी और उन शहरों के लिए हर शहर के स्तर पर विशेष योजना तैयार किए जाने का भी निर्देश दिया गया था।  

पोल्यूशन रोकने करने होंगे उपाय
ज्यादा प्रदूषण वाले शहरों में शहर के अनुसार, प्रदूषण पर नियंत्रण संबंधी योजना जमा करने के बाद उस पर छह माह में काम शुरू करना होगा। योजना में शहर में वायु प्रदूषण के स्रोतों की पहचान, उनका विभाजन, वायु गुणवत्ता निरीक्षण व्यवस्था को मजबूत करना, निश्चित समय में एयर पोल्यूशन के स्रोतों को रोकने के लिए उचित कदम उठाने जैसे प्रावधान शामिल किए जाने हैं। 

नागपुर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का दावा
तैयार है प्लान : नागपुर स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड नागपुर क्षेत्र के अंतगर्त  नागपुर, वर्धा, भंडारा और गोंदिया की जिम्मेदारी है। सब रीजनल अधिकारी हेमा देशपांडे के अनुसार एनजीटी के निर्देश के अनुसार, शहर के लिए नीरी के सहयोग से क्लीन एयर एक्शन प्लान तैयार कर लिया गया है। 

राज्य के नॉन अटेंमेंट शहरों में 2018 में औसत पीएम 2.5 और प्रदूषण में राज्य, देश और दुनिया में स्थान
शहर           राज्य          देश        दुनिया      पीएम 2.5
मुंबई              1            22           71          58.6
औरंगाबाद       2           40          142         47.4
नागपुर           3           41          149          46.6
पुणे                4           42         153          46.3
चंद्रपुर            5            49         202          41.4
नाशिक          6            50         224          39.4
सोलापुर         7            51         233          38.1
ठाणे              8            52         238          39.6
 

खबरें और भी हैं...