comScore

ऊर्जा मंत्री राऊत का बड़ा बयान : बिजली आपूर्ति ठप होने की घटना में साजिश से इनकार नहीं

ऊर्जा मंत्री राऊत का बड़ा बयान : बिजली आपूर्ति ठप होने की घटना में साजिश से इनकार नहीं

डिजिटल डेस्क, मुंबई। ऊर्जा मंत्री नितीन राऊत ने कहा कि बिजली आपूर्ति ठप होने की घटना में साजिश से इनकार नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि यह जानबूझकर की गई हरकत लग रही है। कुछ लोग ऊर्जा विभाग को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। बुधवार को राऊत ने कहा कि बिजली आपूर्ति ठप की घटना की जांच के लिए तकनीकी समिति गठित की जा रही है। इस समिति की प्राथमिक रिपोर्ट सप्ताह भर में आएगी। इसके बाद महावितरण के अधिकारियों पर निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी। राउत ने कहा कि पूरी मुंबई, नई मुंबई और ठाणे में बिजली आपूर्ति ठप होना कोई साधारण घटना नहीं है।

मुंबई में बिजली ठप नहीं होनी चाहिए थी। राऊत ने कहा कि 400 केवी की कलवा- पड़घा लाइन पर काम शुरू होने के बाद दूसरे सर्किट पर लोड डाला गया था। लेकिन इस दौरान मरम्मत काम में प्रोटोकॉल का पालन हुआ है, अथवा नहीं इसकी जांच की जाएगी। यदि प्रोटोकॉल का पालन किया गया है, तो खारघर की इकाई क्यों बंद हो गई? इसकी भी जांच की जा रही है। राऊत ने कहा कि बिजली आपूर्ति ठप होने के मामले को लेकर केंद्र सरकार की एक टीम आई है। यह टीम अपना काम कर रही है। राऊत ने कहा कि साल 2011 में इस प्रकार की घटना हुई थी। उस समय गठित की गई जांच समिति की रिपोर्ट का भी अध्ययन किया जाएगा। 

वहीं भाजपा विधायक आशीष शेलार ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को इस मामले में पत्र लिखा है। शेलार ने कहा कि मंत्री राऊत कह रहे हैं कि ऊर्जा विभाग को बदनाम करने की साजिश है। इसलिए सरकार को जांच करानी चाहिए कि आखिर यह साजिश कौन कर रहा है। उन्होंने कहा कि इस घटना के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ अब तक कार्रवाई क्यों नहीं की गई। इससे पहले 12 अक्टूबर को मुंबई, ठाणे और नई मुंबई में बिजली ठप हो गई थी। इस कारण लोकल ट्रेनों की सेवाएं प्रभावित हुई थीं। 
 

कमेंट करें
SbyRD