comScore

पावरग्रिड ने वर्ष 2014-15 से लेकर वर्ष 2020 तक, लगभग 2870 सर्किट किमी एवं 7,470 एमवीए की परिवर्तन क्षमता की अंतर-क्षेत्रीय पारेषण सिस्ट्म को जोड़ा

September 15th, 2020 10:54 IST
पावरग्रिड ने वर्ष 2014-15 से लेकर वर्ष 2020 तक, लगभग 2870 सर्किट किमी एवं 7,470 एमवीए की परिवर्तन क्षमता की अंतर-क्षेत्रीय पारेषण सिस्ट्म को जोड़ा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आज माननीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) (विद्युत एवं नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा) और राज्य मंत्री (कौशल विकास और उद्यमशीलता),भारत सरकार श्री आर. के. सिंह द्वारा पावरग्रिड के 400/220/132 के.वी. सहरसा उप-केंद्र में 400 के.वी. डबल सर्किट किशनगंज – दरभंगा पारेषण लाईन के लीलो निर्माण परियोजना का शिलान्यास वर्चुअल माध्यम से किया गया। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि श्री बिजेन्‍द्र प्रसाद यादव, माननीय उर्जा, मद्य निषेध एवं निबंधन मंत्री, बिहार सरकार तथा गरिमामयी उपस्थिति के रूप में श्री दिनेश चंद्र यादव, माननीय सांसद, मधेपुरा ऑन-लाईन जुड़े हुए थे। इस शिलान्यास कार्यक्रम के अवसर पर पावरग्रिड के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री के. श्रीकांत ने सभी गण-मान्य अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर पावरग्रिड के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए श्री आर. के. सिंह ने कहा, “पावरग्रिड, जो अब एक महारत्न सीपीएसई है, ने देश के हर प्रांत एवं क्षेत्र को राष्ट्रीय ग्रिड से जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है । खासकर बिहार में, ऊर्जा मंत्रालय के तत्वावधान में, पावरग्रिड ने वर्ष 2014-15 से लेकर वर्ष 2020 तक, लगभग 2870 सर्किट किमी एवं 7,470 एमवीए की परिवर्तन क्षमता की अंतर-क्षेत्रीय पारेषण सिस्ट्म को जोड़ा है। अंतर-क्षेत्रीय पारेषण सिस्टम बिहार को देश के अन्य राज्यों से सस्ती और विश्वसनीय बिजली प्राप्त करने में मदद करते हैं।उन्होंने कहा कि बिजली की आपूर्ति की विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) ने उत्तर बिहार के पावर परिदृश्य का अध्ययन किया और दरभंगा के साथ सहरसा 400 केवी उप-केंद्र के लिए अतिरिक्त कनेक्टिविटी प्रदान करने का निर्णय लिया गया है। सहरसा उप-केंद्र पर किशनगंज-दरभंगा 400 kV डबल सर्किट लाइन के लूप-इन-लूप-आउट सेक्शन के निर्माण से इसे प्राप्त करने की योजना है। इसके साथ सहरसा और इसके आस-पास के इलाके जैसे सुपौल, खगड़िया और बेगूसराय को नेशनल ग्रिड से लगातार बिजली की आपूर्ति हो सकेगी। पावरग्रिड द्वारा 400/220/132 के.वी. उप-केंद्र की स्थापना सहरसा में की जा रही है। इस उप-केंद्र को 400 के.वी. लीलो किशनगंज – पटना लाईन के माध्यम से पटना और किशनगंज से जोड़ा जाएगा। बाढ़ बाहुल्य क्षेत्र होने के कारण सहरसा में एक अतिरिक्त विद्युत स्‍त्रोत की आवश्यकता को देखते हुए 400 के.वी. दरभंगा-किशनगंज निर्माणाधीन लाईन के लीलो का सहरसा उप-केंद्र में का प्रावधान किया गया है। लगभग 100 करोड़ की लागत से बनने वाले इस प्रोजेक्ट से सहरसा, सुपौल, खगड़िया एवं बेगुसराय जिलों की विद्युत स्थिति में काफी सुधार होगा। इस परियोजना से उत्तरी बिहार में लो वोल्टेज की समस्या का समाधान हो सकेगा। यह परियोजना उत्तर बिहार के लिए एक वरदान साबित होगी और इस क्षेत्र के विकास में सहायक सिद्ध होगी। पावरग्रिड, विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन एक 'महारत्न' सार्वजनिक उद्यम है जो अत्याधुनिक रखरखाव तकनीकों, स्वचालन एवं डिजिटलीकरण के उपयोग से अपने विशाल नेटवर्क की उपलब्‍धता 99% से ऊपर बनाए रखता है। अगस्त, 2020 की समाप्ति पर पावरग्रिड और उसकी सहायक कंपनियों की कुल पारेषण परिसंपत्तियों में 1,64,511 सर्किट किमी की पारेषण लाइनें, 249 सब-स्टेशन और 4,14,774 एमवीए से अधिक की ट्रांसफार्मेशन क्षमता सम्मिलित है। 

कमेंट करें
u6nwl
NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।