comScore

स्टाइपेंड बढ़ाकर निवासी चिकित्सकों का हौसला अफजाई की है तैयारी

स्टाइपेंड बढ़ाकर निवासी चिकित्सकों का हौसला अफजाई की है तैयारी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कोरोना संकट काल में निवासी चिकित्सकों का हौसला बढ़ाने की तैयारी चिकित्सा शिक्षा एवं शोध संचालनालय (डीएमईआर) के साथ ही राज्य सरकार ने भी कर ली है। महाराष्ट्र एसोसिएशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स (मार्ड) द्वारा दिए गए निवासी चिकित्सकों के स्टाइपेंड बढ़ाने के प्रस्ताव को मंजूर देने की दिशा में काम किया जा रहा है। विशेष बात यह है कि इस प्रस्ताव को ऐसे समय हरी झंडी दिखाई जा रही है, जब निवासी चिकित्सक इसकी मांग ना करके बल्कि स्वास्थ्य सेवाओं में जुटे हुए थे।

निवासी चिकित्सकों को समय-समय पर स्टाइपेंड बढ़वाने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। कई बार तो स्टाइपेंड ना बढ़ने की स्थिति में वह हड़ताल पर भी जा चुके हैं, लेकिन फिलहाल बिना हड़ताल और बवाल के ही उनका स्टाइपेंड बढ़ाने की दिशा में काम किया जा रहा है। जिस वजह से संभावना जताई जा रही है कि जून माह का स्टाइपेंड उनको बढ़ाकर मिल सकता है। महाराष्ट्र में निवासी चिकित्सको का स्टायपेंड अभी 55 हजार है, जिसे करीब 10 हजार रुपए की बढ़ाकर 65 हजार करने की अनुमान है।

यह रही स्थिति

कोरोना के शुरुआती दौर में सरकारी कॉलेजों में मूलभूत सुविधाओं की समस्याएं थी। ऐसे में कोरोना मरीजों का व्यवस्थाओं काे जुटाने के साथ ही अपने मनोबल को बढ़ाकर काम करने का साहस निवासी चिकित्सकों ने दिखाया है। कई बार उनके सामने मॉस्क, ग्लब्स, पर्सनल प्रोटेक्शन इक्यूपमेंट (पीपीई) किट आदि की समस्याएं भी आईं, लेकिन उनको संभालते हुए निवासी चिकित्सकों ने अपनी सेवाएं दी जिसकी वजह से बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मरीज ठीक होकर घर लौट रहे है।

कमेंट करें
kwuDC