दैनिक भास्कर हिंदी: अचानक गणेश दर्शन को पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी,  गुजराती में लिखा संदेश

September 7th, 2019

डिजिटल डेस्क,मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अपनी महाराष्ट्र यात्रा की शुरुआत महानगर के पश्चिमी उपनगर विलेपार्ले में 96 साल पुराने लोकमान्य सेवा संघ (एलएसएस) में स्थापित भगवान गणेश के दर्शन के साथ की। उनके साथ राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस व स्थानीय भाजपा विधायक पराग अलवणी भी मौजूद थे। प्रधानमंत्री के पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार उनकी विलेपारले जाने की योजना नहीं थी।  

मोदी ने गुजराती में लिखा संदेश

लोकमान्य सेवा संघ की स्थापना 11 मार्च, 1923 को लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के अनुयायियों द्वारा सामाजिक रूप से सतर्क, अनुशासित, सुसंस्कृत और प्रगतिशील समाज के निर्माण के लिए की गई थी।  मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत लोकमान्य सेवा संघ अध्यक्ष मुकुंद चितले, समिति के सदस्य रश्मि फडणवीस, महेश काले, उदय तड़ालकर और अन्य ने किया। समिति के सदस्य प्रधानमंत्री मोदी को लोकमान्य सेवा संघ के दौरे पर ले गए और उन्हें विभिन्न गतिविधियों और वहां लगाए गए प्रदर्शनियों के बारे में समझाया। बाद में मुख्य हॉल में प्रधानमंत्री ने भगवान गणेश के दर्शन किए, जिसे 10 दिनों तक चलने वाले त्योहार गणेश चतुर्थी के उपलक्ष में स्थापित किया गया था। प्रधानमंत्री मोदी ने लोकमान्य गंगाधर तिलक के योगदान को याद करते हुए आगंतुक रजिस्टर में गुजराती में अपना संदेश लिखा 

गणेश विसर्जन के समय जल प्रदूषण से बचें : मोदी

महाराष्ट्र से सबसे बड़े त्यौहारों में से एक गणेशोत्सव के मौके पर मुंबई पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से अपील कि की गणेश विसर्जन के दौरान जल प्रदूषण करने से बचें और प्लास्टिक एवं अन्य अपशिष्ट समुद्र में ना जाए। मोदी ने कहा कि मैं ‘एक भारतीय-एक संकल्प’ के लिए एक सुझाव देना चाहूंगा। हमें पर्यावरण की रक्षा करने की जरूरत है और एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक का उपयोग ना करें। हमें जल प्रदूषण से बचना होगा। गणेश विसर्जन के दौरान प्लास्टिक एवं अन्य अपशिष्टों का ढेर समुद्र में चला जाता है। हमें इसे रोकना होगा।