दैनिक भास्कर हिंदी: आतंकवाद-नक्सलवाद से लोहा लेने अमेरिकी कंपनी से हुआ खास करार

October 28th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। अब तक आवासीय एवं संस्थानों की सुरक्षा व्यवस्था देखने वाली देश की निजी सुरक्षा एजेंसियां अब सामरिक और सैन्य स्तर पर चुनौतियों का मुकाबला करने की तैयारी कर रही हैं और आने वाले दिनों में आतंकवाद, नक्सलवाद और समुद्री लुटेरों की गंभीर समस्या से निपटने के लिए होने वाली सैन्य कार्रवाइयों अथवा गनफाइटिंग ऑपरेशन्स में स्थानीय पुलिस बल, अर्ध सैनिक बलों और सेना की मदद करती हुई दिखेंगी। इसी क्रम में रोजगार, सूचना प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य, कृषि और व्यापार के क्षेत्र में नए कॉन्सेप्ट के सृजन और निर्माण पर फोकस करने वाली नामचीन भारतीय कंपनी कॉरपोररेट कॉन्सेप्ट्स एंड नॉलेजवेयर क्रिएटर्स लिमिटेड (सीसीकेसी लिमिटेड) ने अमेरिका की मशहूर होमलैंड सुरक्षा कंपनी आर्मजेट इंक एलएलसी से सुरक्षा और रक्षा-क्षेत्र से संबंधी उपकरण हासिल और जवानों को प्रशिक्षण देने के लिए एक व्यापक करार किया है।  
 
सिक्योरिटी कंपनी आर्मजेट इंक एलएलसी सरकार और वाणिज्यिक संस्थाओं को सुरक्षा और रक्षा क्षेत्र में परामर्श, विषय विशेषज्ञ और उत्पाद सहायता प्रदान करती है। यह कंपनी सुरक्षा एजेंसियों की ख़ास ज़रूरतों को पूरा करने के लिए "हाई टेक’ सुरक्षा और निगरानी प्रणाली, समुद्री, रसद, प्रशिक्षण और विशेष मिशन समाधान भी मुहैया कराती है। आर्मजेट पिछले 70 साल से एशिया, अफ्रीका और मध्य पूर्व एशिया के कई देशों में सैन्य, कानून प्रवर्तन, विशिष्ट प्रशिक्षण और लॉजिस्टिक ऑपरेशंस के क्षेत्र में काम कर रही है।

सीसीकेसी लिमिटेड के निदेशक सुजीत कटियार ने कहा कि अलगाववाद, आतंकवाद, नक्सलवाद और समुद्री लुटेरों की समस्या से निपटने में सुरक्षा बलों का सहयोग करने के लिए अब निजी सुरक्षा एजेंसिया चाक चौबंद हो रही हैं। उनका यह कदम निश्चित रूप से सिक्योरिटी सेक्टर में गेम चेंजर साबित होगा। इससे हम लोग आतंकवादी और नक्सल प्रभावित क्षेत्रों और समुद्री उद्योग के लिए खतरा बन रहे समुद्री डकैतों से निपटने के लिए होने वाले काउंटर ऑपरेशन्स में सरकारी एजेंसियों का सहयोग कर सकेंगे और उन्हें अत्याधुनिक रक्षा उपकरण और मैनपॉवर भी उपलब्ध करा सकेंगे।

कोरोना वायरस महामारी के समय जब पूरे भारत में लाखों प्रवासी विस्थापित और बेरोजगार हो गए थे और मजबूरन अपने मूल स्थान पर लौट रहे थे, तब सीसीकेसी लिमिटेड की ओर से की गई पहल रोज़गार सेतु काफी चर्चा में आई थी। रोज़गार सेतु ने लॉकडाउन के सामय देश में प्रवासी श्रमिकों और नियोक्ताओं के बीच का सेतु का काम किया था। रोजगार सेतु प्रवासी मज़दूरों के लिए मंच प्रदान किया था, जिसमें लोगों को उनके कौशल के अनुसार नौकरी दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।