प्रस्ताव: चुनाव चिह्न के नाम पर होगा चौराहा

February 27th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। जाति या धर्मवाचक नाम की बस्ती, मार्ग या चौराहों के नाम बदलने का राज्य सरकार ने शासनादेश जारी किया है। इस पर अमल करने के लिए मनपा ने मनीषा धावड़े की अध्यक्षता में नामकरण समिति गठित की है। समिति को शहर की अनेक बस्तियों, मार्ग तथा चौराहों के नामकरण की सिफारिश के साथ रिपोर्ट प्रस्तुत करनी थी। समिति ने प्रस्तुत रिपोर्ट में जरीपटका के एक चौराहे को सत्ताधारी दल का चुनाव निशान "कमल फूल' नामकरण करने की सिफारिश है। साईं वसनशाह चौक से हेमू कॉलोनी के बीच चौराहे को भाजपा के चुनाव निशान का नाम देने का प्रस्ताव 2 मार्च की मनपा की आमसभा के पटल पर रखा जाएगा। मौजूदा मनपा सदन की यह अंतिम आमसभा होगी। 4 मार्च को सदन का कार्यकाल समाप्त हो जाएगा।

नामकरण समिति की 24 जनवरी को हुई बैठक में 5 और 22 फरवरी को हुई बैठक में 8 नामकरण प्रस्ताव मंजूर किए गए। उसे मनपा की आमसभा में मंजूरी के लिए विषय पत्रिका में लिया गया है। 24 जनवरी की बैठक में बॉम्बे स्कूटर से चौधरी चौक जरीपटका मार्ग को कलगीधर सत्संग मार्ग, कस्तूरबा नगर गली नंबर 1 से मुक्तिधाम कुमरेजा नगर तक स्वामी संत खिलूराम मार्ग, बापूना टी-प्वाइंट गुरुनानक सोसाइटी से जीकुमार आरोग्यधाम तक गुरु हरिकिशन देव मार्ग, खसरा क्रमांक 9, मौजा खामला स्थित गिट्टीखदान मजदूर सहकारी सोसाइटी प्रताप नगर को जीजाऊ ले-आउट प्रताप नगर, लक्ष्मी नगर कलमना मार्केट चौराहे का शिवाजी चौक नामकरण करने की सिफारिश की गई है। 22 फरवरी की बैठक में प्रभाग 19 में मोहन नाईक के घर के सामने से मिर्जा गली की ओर जाने वाले टी-प्वाइंट को ईश्वरलाल नायक पथ त्रिवेणी, प्रभाग 19 में एचपी गैस गोदाम चंदू घारपेंढे के मकान के पास त्रिकोण को स्व. गुरुप्रसाद गंगोत्री पथ त्रिवेणी, मसोबा मंदिर से एम्प्रेस मिल पारसी चाल मार्ग को पीजी गौर मार्ग, अनंत गुप्ता के निवास से खदान मार्ग को स्व. अशोक गुप्ता मार्ग, एम्प्रेस मिल से रजवाड़ा पैलेस नवनिर्मित मार्ग को अमृत महोत्सव मार्ग, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी मार्ग को सलीमभाई फूलवाला से बुद्ध विहार तक तथागत मार्ग, राम नगर में प्लाॅट नंबर 251 से 268 तक एड. मनोहर परचुरे मार्ग नामकरण करने की सिफारिश की गई है।

गोंड, गोंडवाना, आदिवासी नाम नहीं बदलेंगे
बस्ती, मार्ग, चौराहों के जाति तथा धर्मवाचक नाम बदलने की प्रक्रिया शुरू होने पर आदिवासी समाज के सामाजिक संगठनों ने गोंड, गोंडवाना, आदिवासी नाम पूर्ववत रखने का मनपा से अनुरोध किया। जय गोंडवाना बहुउद्देशीय व क्रीड़ा मंडल तथा बिरसा फाइटर्स संगठन ने मनपा को ज्ञापन सौंपकर गोंड, गोंडवाना तथा आदिवासी शब्दों को भूभाग सूचक बताते हुए उसे नहीं बदलने की मांग की है। आदिवासी समुदाय की मांग पर इन शब्दों को बरकरार रखने के संबंध में राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजकर मार्गदर्शक सूचना प्राप्त करने का मनपा की आमसभा में प्रस्ताव पटल पर रखा जाएगा।

मनपा की खेल नीति पर लगेगी मुहर
शहर में खेल प्रतिभा को निखारने के लिए मनपा ने खेल नीति तैयार की है। उसे आमसभा में मंजूरी के लिए रखा जाएगा। शहर को खेल नगरी की पहचान दिलाने के लिए नई खेल नीति का प्रारूप तैयार किया गया है। मनपा की ओर से राज्य स्तरीय, जिला स्तरीय, महापौर ट्रॉफी स्पर्धा, शालेय खेल स्पर्धा का आयोजन खिलाड़ियों का सम्मान, खिलाड़ियों को मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराने का नई खेल नीति में समावेश रहेगा।