comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

आधुनिकता की दौड़ में संस्कारों की रक्षा करना चुनौती, साहित्यकारों पर बड़ी जिम्मेदारी - गड़करी

आधुनिकता की दौड़ में संस्कारों की रक्षा करना चुनौती, साहित्यकारों पर बड़ी जिम्मेदारी - गड़करी

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  तेजी से आधुनिकता की ओर बढ़ रहे विश्व के सामने अपने संस्कारों के संरक्षण करने की चुनौती है। भारत देश की सबसे खास बात यह है कि, हमने अपने साहित्य, संस्कार और संस्कृति को संजोकर रखा है। ऐसे में देश भर के साहित्यकारों की यह बड़ी जिम्मेदारी बनती है कि, वे नई पीढ़ी तक साहित्य की सभी विधाओं को पहुंचाने में अहम भूमिका निभाएं। इसके लिए हमें साहित्य के विकास के लिए जरूरी सुविधाएं मुहैया करानी होगी।

 केंद्रीय मंत्री नितीन गड़करी  सीताबर्डी के माहेश्वरी सभागृह में विदर्भ हिन्दी साहित्य सम्मेलन के वार्षिक अधिवेशन मंे बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने आगे कहा कि, साहित्य की ताकत विश्व के किसी भी हथियार से ज्यादा होती है। गीत-साहित्य सिर्फ मनोरंजन तक सीमित नहीं है, बल्कि ये  समाज को बदलने की ताकत रखते हैं।  सड़क, पुल, मेटो जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ हमें अपने उन संस्कारों को भी आगे बढ़ाना होगा, जहां की मिट्टी से हम बनें हैं। हमारी युवा पीढ़ी को पश्चिमी सभ्यता की कुरीतियों से बचाने के लिए भारतीय नीतिमूल्य सिखाना जरूरी है। मंच पर  सम्मेलन के प्रधानमंत्री श्री विनोद माहेश्वरी, अध्यक्ष सुरेश शर्मा, कार्यकारी प्रधानमंत्री मधुप पांडेय भी मौजूद थे। 

बुजुर्गों पर बड़ी जिम्मेदारी
अपने बचपन की यादों को ताजा करते हुए और विदर्भ हिन्दी साहित्य सम्मेलन के योगदान का उल्लेख करते हुए हुए गडकरी ने कहा कि, साहित्य-कला और संगीत में वह शक्ति है कि, वह भारत की संस्कृति को और मजबूती प्रदान कर सकती है।  बुजुर्गों पर अब यह बड़ी जिम्मेदारी है। उनको युवा पीढ़ी को ज्यादा से ज्यादा संस्कार देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि, वैसे तो पुणे शहर को सांस्कृतिक राजधानी कहा जाता है, लेकिन नागपुर में हिन्दी और मराठी दोनों भाषाओं का कला-साहित्य काफी समृद्ध हुआ। समय के साथ सम्मेलन ने कई बदलाव किए। 

विश्व मान रहा हमारी ताकत का लोहा 
गडकरी ने कहा कि, ईरान में संस्कृत भाषा का अध्यासन है, क्योंकि वे मानते हैं कि, उनकी परशियन भाषा की जननी संस्कृत है। जर्मनी तो आयुर्वेद और योग पर भारत से ज्यादा अनुसंधान कर रहा है। कई भारतीयों को अब भी अपनी विरासत-शिक्षा पद्धति पर भरोसा नहीं है। यह एक चिंता का विषय है। समाज को अब भी अच्छे विचारकों की जरूरत है। ऐसे में  साहित्य-कला के लिए सुविधाएं और साधन भी विकसित करना जरूरी है, ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा इससे जुड़ सकें।  कार्यक्रम में प्रेरणापुंज सम्मान नागेश पाटिल को दिया गया।  श्री रामगोपाल माहेश्वरी स्मृति प्रेरणा पुरस्कार डा. कुसुम पटोरिया, डा. विनोद नायक को प्रदान किया गया।  हिन्दी विषय में अव्वल रहने वाली गौसिया बानो और मानसी जारेल को भी इस दौरान सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में अनंत रावल, रमेशप्रसाद शुक्ला, कुंजबिहारी अग्रवाल, विमलेश सूर्यवंशी, राजेन्द्र शुक्ला, आदेश जैन भी  उपस्थित थे। 
 

कमेंट करें
8NRXs
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।