comScore

क्वारंटीन टाइम पूरा, फिर भी सेंटर से छुट्टी नहीं - जाँच भी नहीं हो रही, होटल में रुका मेडिकल स्टाफ परेशान

क्वारंटीन टाइम पूरा, फिर भी सेंटर से छुट्टी नहीं - जाँच भी नहीं हो रही, होटल में रुका मेडिकल स्टाफ परेशान

डिजिटल डेस्क जबलपुर । मेडिकल कॉलेज में कोविड वार्ड में 15 दिन की ड्यूटी करने के बाद होटलों में 14 दिन का क्वारंटीन पीरियड पूरा होने के बाद भी नर्सिंग स्टाफ को घर जाने की इजाजत नहीं दिए जाने का मामला सामने आया है। स्टाफ का कहना है कि 14 दिन बीतने के बाद उनका कोरोना टेस्ट कराया जाना चाहिए, वह भी नहीं कराया जा रहा है। ऐसी स्थिति में घर जाना चाह रहा स्टाफ मजबूरी में होटलों में दिन काट रहा है। मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर्स सहित मेडिकल स्टाफ जो कि कोविड वार्ड में तैनात रहा, 15 दिन की ड्यूटी के बाद उसका 14 दिन का इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन जरूरी है। इसके लिए मेडिकल प्रबंधन ने क्षेत्र की कई होटलों को अधिग्रहित िकया है। क्वारंटीन टाइम पूरा होने के बाद जाँच न कराए जाने पर घर नहीं जा पा रहा स्टाफ परेशान है, उनका कहना है कि एक महीने से अकेले रहने के बाद वे अब अपने परिवारों के बीच जाना चाहते हैं लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा है। इस संबंध में कोविड नोडल अधिकारी डॉ. संजय भारती का कहना है कि नर्सें खुद होटलों से नहीं जाना चाहतीं, उनका कहना है कि किराए के मकान में या सोसायटी में खुद का घर होने पर भी वहाँ जाने पर मकान मालिक-पड़ोसी आपत्ति उठा सकते हैं। प्रबंधन खुद ही होटलों को दूसरी ट्रिप के मेडिकल स्टाफ के लिए खाली कराना चाहता है। 
6 लोगों को छुट््टी मिली7 सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल से मंगलवार को 4 कोरोना पीडि़तों को स्वस्थ होने के बाद छुट्टी दे दी गई। इनके साथ ही सुखसागर कोविड केयर सेंटर से 2 पॉजिटिव मरीजों को 10 दिन आइसोलेशन में उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। इन्हें घर में जगह नहीं होने के कारण 7 दिन सुखसागर हॉस्पिटल के क्वारंटीन सेंटर में रखा जाएगा। सुपर स्पेशिएलिटी से छुट्टी मिलने वाले मरीजों को घर भेजा गया है।

कमेंट करें
IOJp8