comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मोदी की होंगी 9 सभाएं, स्मृति ईरानी ने कहा- राहुल कांग्रेस के लिए बन चुके समस्या

मोदी की होंगी 9 सभाएं, स्मृति ईरानी ने कहा- राहुल कांग्रेस के लिए बन चुके समस्या

डिजिटल डेस्क, मुंबई। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पर जोरदार निशाना साधा है। स्मृति ने कहा कि राहुल अपनी ही पार्टी के संगठन के लिए समस्या बन चुके हैं। शुक्रवार को भाजपा के प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में स्मृति ने कहा कि हम राहुल से पूछना चाहते हैं कि यूनाइटेड किंगडम में लेबर पार्टी के जिस नेता ने जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर भारत को कलंकित करने का काम किया। उस नेता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कांग्रेस पार्टी के नेता क्यों खड़े हुए हैं। स्मृति ने कहा कि राहुल से महाराष्ट्र की जनता जानना चाहेगी कि उन्होंने वीर सावरकर का अपमान क्यों किया। स्मृति ने कहा कि राहुल को साल 2019 के विधानसभा चुनाव में एक जवाब मिल चुका है उन्हें एक और जवाब महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव के परिणाम के जरिए मिल जाएगा। राहुल ने जहां-जहां पर प्रचार किया है उन सीटों पर कांग्रेस हारी है। स्मृति ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रदेश में सकारात्मक राजनीति का उदाहरण प्रस्तुत किया है। लेकिन राजनीतिक दृष्टि से राहुल कितने साकारात्मक हैं इसका प्रमाण लोकसभा के अमठी के चुनाव में हमें मिल चुका है। विपक्ष के जिन विधायकों पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं उन्हें भाजपा में शामिल करने के सवाल पर ईरानी ने कहा कि मोदी के बारे में पूरा देश जानता हैं। यदि कोई कानून का उल्लंघन करेगा तो उसको जेल जाना पड़ेगा। कोई भी आरोपी आज तक छूटा नहीं है। 

मोदी की प्रदेश में होंगी 9 सभाएं 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रदेश में भाजपा के उम्मीदवारों के प्रचार के लिए 9 सभाएं करेंगे। भाजपा नेता व केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने यह जानकारी दी। स्मृति ने बताया कि प्रधानमंत्री की पहली सभा 13 अक्टूबर को जलगांव और भंडारा के साकोली में होगी। मोदी 16 अक्टूबर को अकोला, नई मुंबई के ऐरोली और जालना के परतूर में सभा को संबोधित करेंगे। 17 अक्टूबर को मोदी पुणे, सातारा और बीड़ के परली में सभा होगी। मोदी की आखिरी सभा 18 अक्टूबर को मुंबई में होगी। ईरानी ने कहा कि 18 अक्टूबर को मुंबई की सभा में शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे रहेंगे या नहीं। यह संगठन की ओर से तय किया जाएगा।
 

कमेंट करें
K7rbd
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।