comScore

पवार ने कहा - संतोषजनक है मुख्यमंत्री उद्धव का कामकाज, राऊत बोले- महा आघाडी सरकार में कोई मतभेद नहीं

पवार ने कहा - संतोषजनक है मुख्यमंत्री उद्धव का कामकाज, राऊत बोले- महा आघाडी सरकार में कोई मतभेद नहीं

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि महाविकास आघाडी सरकार में कोई विवाद नहीं है। सत्ताधारी तीनो दलो के बीच नाराजगी की खबरों को खारिज करते हुए पवार ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के कामकाज को लेकर संतोष जताया। मंगलवार को पुणे में पत्रकारों से बातचीत में पवार ने कहा कि मुख्यमंत्री के साथ बैठक में राज्य की समस्याओं पर चर्चा होती है। जब कोई समस्या पैदा होती है तो हम दोनों की चर्चा होती है। पवार ने कहा कि मुंबई पुलिस के 10 पुलिस उपायुक्तों के तबादले को लेकर नाराजगी की खबरों में कोई तथ्य नहीं है। उन्होंने कहा कि आईएएस और आईपीएस अफसरों की नियुक्ति मुख्यमंत्री की सहमति से ही होती है। पवार ने अहमदनगर के पारनेर नगर पंचायत के शिवसेना के पांच नगरसेवकों के राकांपा में प्रवेश को छोटा मुद्दा बताया। उन्होंने कहा कि नगरसेवकों का प्रवेश का मुद्दा राज्य और राष्ट्रीय स्तर की समस्या नहीं हो सकती है। यह बात मुझे और मुख्यमंत्री दोनों को पता है। विपक्ष की ओर से मुख्यमंत्री के कामकाज को लेकर नाराजगी जताने पर पवार ने कहा कि आलोचना करना विपक्ष का काम है लेकिन हमें मुख्यमंत्री का काम अच्छा नजर आ रहा है। कोरोना के कारण मुख्यमंत्री और राज्य मंत्रिमंडल के उनके सहयोगी दिन भर में 14 से 15 घंटे बैठक करते हैं। इसलिए जितना संभव हो विपक्ष को टीका टिप्पणी से बचना चाहिए। पवार ने कहा कि यह सच है मुख्यमंत्री ने सत्ता में आने के बाद जिन कामों को शुरू करने का फैसला लिया था कोरोना के कारण उसको रोकना पड़ा। कोरोना संकट के चलते सरकार की प्राथमिकता बदल गई है। पवार ने कहा कि कोरोना के संकट में प्रदेश का नेतृत्व करने वाले अगर घर से निकलते हैं तो लोगों की भीड़ होती है। इसलिए जिनता संभव हो नेतृत्व को बाहर निकलने से बचना चाहिए। संवाद के लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करना चाहिए। लॉकडाउन को लेकर सरकार के तीनों दलों की अलग-अलग भूमिका के सवाल पर पवार ने कहा कि जिसके हाथ में नेतृत्व होता है उसे सावधानी बरतनी ही पड़ती है। मेरे हाथ में सत्ता नहीं है। इसलिए हम मुक्त रूप से अपने विचार रख सकते हैं लेकिन अमल करने की जिम्मेदारी नेतृत्व पर होती है।

बोले राऊत- महा आघाडी सरकार में कोई मतभेद नहीं

राकांपा अध्यक्ष शरद पवार और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच मुलाकात के एक दिन बाद शिवसेना सांसद संजय राऊत ने दावा किया कि महाविकास आघाडी सरकार में मतभेद नहीं है। राऊत ने कहा कि देश के तीन प्रमुख दलों की महाविकास आघाडी सरकार खिचड़ी सरकार नहीं है। राऊत ने दावा किया कि सरकार के घटक दलों में अविश्वास नहीं है। कोरोना संकट के कारण थोड़ा संवाद कम हुआ है, इसका मतलब यह नहीं है कि सरकार में मतभेद है। मंगलवार को राऊत ने कहा कि राकांपा मुखिया पवार ने विश्वास जताया है कि सरकार पांच साल चलेगी। मैंने प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष तथा राजस्व मंत्री बालासाहब थोरात से भी कुछ मुद्दों पर चर्चा की है। राऊत ने कहा कि मुझे नहीं लगता है कि मुंबई में 10 पुलिस उपायुक्तों के तबादले को लेकर मुख्यमंत्री को अंधेरे में रखा गया था। तबादले का मुद्दा खत्म हो गया है।

इसलिए इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। राऊत ने कहा कि अहमदनगर के पारनेर नगर पंचायत के शिवसेना के पांच नगरसेवकों को राकांपा में शामिल करने के मुद्दे पर पार्टी में चर्चा हुई है। यह स्थानीय राजनीति का मामला है। हमें नहीं लगता कि उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने शिवसेना के नगरसेवकों को तोड़ा है। लेकिन अब तय हुआ है कि ऐसे फैसले करते समय पहले चर्चा होगी। पवार की विश्वसनीयता के सवाल पर राऊत ने कहा कि वह पवार दूसरे हैं मैंने जिस पवार को देखा और अनुभव कर रहा हूं वह अलग हैं। मैंने जिस पवार को देखा है, उस पर मुझे विश्वास है। पवार के बारे में हमेशा गलतफहमी और गलत बयानी की जाती है। राऊत ने कहा कि महाविकास आघाडी सरकार को बनाते समय पवार की ठोस भूमिका सभी ने देखी है। विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस और राकांपा नेता अजित पवार के शपथ ग्रहण के बाद लोगों ने पवार को आरोपों के घेरे में खड़ा करने की कोशिश की। उस समय पवार ने मजबूती से सरकार बनाने में योगदान दिया।

विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस के कोरोना से ध्यान भटकाने के लिए सरकार गिराने का दावा करने के आरोप पर राऊत ने कहा कि यह कहना गलत है। यह तो ऐसा आरोप हुआ कि केंद्र सरकार ने कोरोना से ध्यान भटकाने के लिए चीन के मुद्दे को सामने लाया गया। क्या इसके लिए 20 सैनिकों का बलिदान दिया गया ? हालांकि हम ऐसा नहीं कह रहे है।

शनिवार को प्रकाशित और प्रसारित होगा पवार का साक्षात्कार

राऊत ने कहा कि मैंने राकांपा अध्यक्ष पवार का साक्षात्कार लिया है। यह साक्षात्कार शनिवार से शिवसेना के मुखपत्र सामना में तीन किश्तों में प्रकाशित होगा। यह इंटरव्यू टीवी चैनलों पर भी प्रसारित होगा। राऊत ने कहा कि मुझे लगता है कि साक्षात्कार ऐतिहासिक होगा। क्योंकि यह मैंने किया है। राऊत ने कहा कि राज्य में नई सरकार बनने के बाद हमने तय किया था कि पुणे में पवार का सार्वजनिक साक्षात्कार लिया जाएगा। लेकिन राजनीतिक गतिविधियों के कारण यह संभव नहीं हो पाया था। राऊत ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के जन्मदिन पर 27 जुलाई को उनका साक्षात्कार लेने वाला हूं। इसके अलावा केंद्रीय स्तर के नेताओं के भी साक्षात्कार लूंगा।

कमेंट करें
8UQwb