दैनिक भास्कर हिंदी: जमियत इस्लाम-हिंद के कार्यक्रम में बोले राऊत- सीसीए के विरोध में है शिवसेना    

January 5th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। शिवसेना सांसद संजय राऊत ने कहा है कि उनकी पार्टी नागरिकता संसोधन विधेयक के विरोध हो रहे प्रदर्शनों का समर्थन करती है। उन्होंने कहा कि भाजपा यह बात पचा नहीं पा रही है कि महाराष्ट्र जैसा बड़ा राज्य उसके हाथ से निकल गया। शनिवार को मुंबई मराठी पत्रकार संघ में जमीयत-इस्लाम ए हिंद द्वारा आयोजित कार्यक्रम में राऊत ने कहा कि महाराष्ट्र ने देश को बता दिया है कि डरो मत। महाराष्ट्र ने पूरे देश का राह दिखा दी है। राऊत ने शिवसेना की भूमिका से इतर कहा कि देश ही हमारा धर्म है। हम सब एकजुट हैं और डर किस बात का। राऊत ने कहा कि सच्चे राष्ट्रवादियों को अपनी जाति और धर्म के बावजूद मौजूदा परिस्थितियों में डरने की जरूरत नहीं है। "जो डर पैदा करते हैं वे आते हैं और जाते हैं। 

बाला साहेब ने नहीं किया मुस्लिमों का विरोध

राऊत ने कहा कि भले ही बाल ठाकरे के नाम के आगे हिंदु हृदय सम्राट लगाया जाता था लेकिन स्वर्गीय शिवसेना प्रमुख का मानना था कि देश सभी का है। उन्होंने कभी नहीं कहा कि मुसलमानों को बाहर फेंक दिया जाना चाहिए। वह गद्दारों के खिलाफ थे। उन्होंने कहा ठाकरे के बहुत सारे मुस्लिम दोस्त थे। राऊत ने कहा कि सीए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर पुलिस की गोलीबारी की आलोचना करने वाले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पहले व्यक्ति थे। राऊत ने कहा कि छात्रों ने बदलाव के आंदोलनों का नेतृत्व किया है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान भगत सिंह, अशफाकुल्लाह खान जैसे नौजवानों लड़ाई लड़ी। युवाओं ने आपातकाल के खिलाफ प्रदर्शन किया, नवनिर्माण आंदोलन में भाग लिया। छात्रों को पता है कि सही और गलत क्या है। शिवसेना नेता ने कहा कि सीएए सिर्फ मुस्लिमों को ही नहीं बल्कि 30 प्रतिशत हिन्दुओं को प्रभावित करेगा। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की आलोचना करते हुए राऊत ने कहा, "गृह मंत्री कहते हैं कि कांग्रेस ने धार्मिक आधार पर विभाजन को नहीं रोका। अगर ऐसा है तो आप कहां थे।