दैनिक भास्कर हिंदी: पलटवार में बोले राऊत - महाराष्ट्र नहीं दिल्ली के कांग्रेस नेताओं पर रहती है हमारी नजर

May 12th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। शिवसेना सांसद संजय राऊत ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले के शिवसेना के मुखपत्र सामना को नहीं पढ़ने वाले बयान पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि किसी मुद्दे पर कांग्रेस के राज्य के बजाय दिल्ली के शीर्ष नेता क्या बोलते हैं, उस पर हमारी नजर रहती है। शिवसेना मुखपत्र गल्ली से लेकर दिल्ली तक के नेता पढ़ते हैं।  
बुधवार को राऊत ने कहा कि दिल्ली से लेकर गल्ली तक सामना सभी लोगों को पढ़ना ही पड़ता है। उन्होंने कहा कि मैंने शिवसेना के मुखपत्र सामना में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार को लेकर जो सवाल खड़े किए थे, वही सवाल कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस की कार्य समिति की बैठक में उठाए। सोनिया ने पूछा कि कांग्रेस आखिर असम और केरल में सत्ता में क्यों नहीं आ सकी? राऊत ने कहा कि कांग्रेस की हार को लेकर मेरी टिप्पणी पर राज्य के नेता क्या बोलते हैं यह महत्वपूर्ण नहीं है। राष्ट्रीय मुद्दों पर कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता क्या बोलते हैं उस पर मेरी नजर रहती है। इससे पहले बीते रविवार को राऊत ने विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की हार पर आलोचना की थी। जिसके बाद पटोले ने कहा था कि हमने अब ‘सामना’ पढ़ना बंद कर दिया है। क्योंकि शिवसेना के मुखपत्र में कांग्रेस नेतृत्व की आलोचना होती है। इसलिए उसको अनदेखा करना ही बेहतर है। 

राज्यों के मुख्यमंत्रियों को एक-दूसरे से संवाद करना चाहिए

राऊत ने कहा कि देश में ऑक्सीजन की कमी के कारण लोगों की मौत रही है। इसलिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा ऑक्सीजन आवंटन के लिए बनाए गए राष्ट्रीय कार्य बल को ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। राऊत ने कहा कि केंद्र सरकार और राज्य सरकार को अपनी कमियों को नहीं छिपाना चाहिए। हम लोग एक-दूसरे का मिलकर सहयोग करेंगे। राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी एक दूसरे से संवाद रखना चाहिए। राऊत ने कहा कि उत्तर प्रदेश में गंगा नदी से शवों के बहकर बिहार पहुंचने की तस्वीर भयावह और डरावनी है। देश किस परिस्थिति से गुजर रहा है। उसकी भयंकर तस्वीर हमारे सामने है। 

खबरें और भी हैं...