दैनिक भास्कर हिंदी: खुलासा: अधेड़ प्रेमिका के लिए प्रेमी ने बुजुर्ग पति का कर दिया कत्ल

September 19th, 2019

डिजिटल डेस्क दमोह/कुम्हारी। जिले के कुम्हारी थानांतर्गत ग्राम पटैरिया में ७० वर्षीय वृद्ध की हुई हत्या का मामला लगातार ही उलझता जा रहा था, लेकिन पुलिस की सक्रियता के चलते इस अंधे हत्याकांड का खुलासा पुलिस द्वारा किया गया। जिसमें वृद्ध की हत्या उसकी पत्नी तुलसा बाई व पत्नी के प्रेमी राजू सिंह बघेल द्वारा सुनियोजित तरीके से गला दबाकर कत्ल करना पाया गया है। पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया है।
कुम्हारी थाना प्रभारी श्याम बेन ने बताया कि मृतक नोनेलाल पुत्र परम लाल लोधी ७० साल मूल निवासी ग्राम अधराड़ थाना रैपुरा जिला पन्ना का निवासी था जो रेलवे में गैंगमेन के पद से सेवा निवृत्त होकर अपनी दूसरी पत्नी तुलसा बाई पुत्री हिमालया एवं अजाता के साथ पटैरिया में रहता था। पूर्व पत्नी मुलिया बाई के दो पुत्र कल्लू उर्फ मथुरा प्रसाद तथा लालू उर्फ लाल सिंह मृतक नोनेलाल के पैतृक गांव अधराड़ में ही रहते थे। १० अगस्त १९ की रात्रि में नोनेलाल की पत्नी तुलसा बाई एवं उसके प्रेमी राजू सिंह बघेल बल्लवगढ़ ने पूर्व सुनियोजित तरीके से नोनेलाल की गला दबाकर हत्या कर दी और राजू सिंह वापस बल्लवगढ़ चला गया। तुलसा बाई ने सुबह परिजनों एवं रिश्तेदारों ने नोनेलाल के मरने की झूठी कहानी रात्रि में सोते समय अचानक खत्म हो गए बता दी एवं शव को कपड़ो से इस प्रकार रखकर दिया कि कोई मृतक के गले के निशान न देख सके और यदि कोई शव के पास जाता तो तुलसा बाई शव से लिपटकर रोने लगती थी और शव को कोई न देख सके इस मंसूबे में कामयाब हो जाती थी और कहने लगी थी कि मेरा जी घबरा रहा है शव को जल्दी गांव ले चलों अंतिम संस्कार करना है।

शव को श्मशान से ले गई पुलिस-
सूचना के उपरांत जैसे ही पुलिस श्मशान घाट पहुंची तो शव का पंचनामा कार्रवाई कर उसका पीएम कराया गया तथा परिजनों एवं अन्य के पुलिस ने बयान लेते हुए जाँच प्रारंभ की जिसमें मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया कि नोनेलाल की हत्या उसकी दूसरी पत्नी तुलसा बाई एवं उसके प्रेमी राजू सिंह बघेल द्वारा ही गई है। इस संदेह पर पुलिस द्वारा जाँच की गई। वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट प्राप्त होने पर मृत्यु का कारण गला घुटने से भी पाया गया। जिस पर पुलिस द्वारा मर्ग कायम किया गया था।
हत्या का प्रकरण हुआ दर्ज-
पोस्टमार्टम रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज करते हुए मामले की जांच की जिसमें आरोपी राजू सिंह के मोबाइल की टावर लोकेशन, कॉल डिटेल आदि से राजू सिंह एवं उसकी प्रेमिका तुलसा बाई के विरूद्ध हत्या का आरोप पाया गया। जिसमें थाना प्रभारी कुम्हारी श्याम बेन द्वारा पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह के मार्ग निर्देशन में लगातार ही प्रयास करते हुए दोनो आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की तथा दोनों आरोपियों ने पूछताछ करने पर बताया कि प्रेम संबंधों के चलते नोनेलाल को रास्ते से अलग करने के लिए उसे मारने की योजना बनाई थी और योजना के मुताबिक १० अगस्त की रात नोनेलाल के सोते समय उसके कमरे में घुसकर तुलसा बाई ने नोनेलाल का रूमाल से मुंह ढ़ककर दबा लिया कि आवाज ने आए और राजू सिंह दोनों हाथों से नोनेलाल का गला दबा दिया था जिससे कुछ ही समय में नोनेलाल की मौत हो गई।
पुलिस ने नहीं लिया था गंभीरता से-
१० अगस्त को हुई हत्या के मामले में तत्कालीन थाना प्रभारी द्वारा इस मामले को गंभीरता से न लिए जाने के कारण आरोपियों को लगातार ही बल मिल रहा था और वह इस बात को लेकर प्रसन्न थे कि पुलिस किसी भी प्रकार का ध्यान नहीं दे रही है क्योकि थाना प्रभारी को पुलिस कार्रवाई छोड़ अन्य कार्यो में अधिक रूचि थी और वह अपराध और अपराधियों पर अंकुश लगाने की अपेक्षा स्कूल में पढ़ाने एवं अन्य कार्यो में लगे रहने का ही परिणाम यह हुआ कि इस मामले में किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की गई और वर्तमान थाना प्रभारी द्वारा इस मामले में सक्रियता का परिचय देते हुए आरोपियों को पकडऩे में सफलता हासिल की।