दैनिक भास्कर हिंदी: चाचा ने पिटाई के बाद बच्ची को ट्रेन में बैठाया, धमकी देकर कहा - लौटकर नहीं आना

August 23rd, 2018

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। भोपाल से एक दस साल की बच्ची को उसके चाचा ने पहले मारा-पीटा और फिर यह कहकर ट्रेन में बैठा दिया कि फिर घर लौटकर नहीं आना। यह जानकारी ओवर नाइट एक्सप्रेस से जबलपुर पहुंची दस साल की बच्ची रेशमा खान ने उस समय दी जब स्टेशन पर घूमते हुए आरपीएफ ने उसे पकड़ा। अपने पिता का नाम शब्बीर खान बताने वाली रेशमा का यह भी कहना था कि उसके चाचा ने यह भी धमकी दी थी कि इस बात का किसी से जिक्र नहीं करना।

परेशान हालत में मिली रेशमा ने यह भी जानकारी दी कि वह भोपाल में फूटा मकबरा की गली नंबर एक में रहती है। आरपीएफ के अनुसार इस बच्ची का मेडिकल परीक्षण कराया गया और बच्ची के परिजनों को उसके बारे में सूचना देने के बाद उसे चाइल्ड लाइन के सुपुर्द कर दिया गया है। आरपीएफ के अनुसार बच्ची के बयान के अनुसार उसके परिजनों से मामले की वास्तविकता का पता लगाया जा रहा है।

इमरजेंसी काम के बहाने हड़प लिए 4 लाख रुपए
कोतवाली बाजार में कौशल्या हैल्थ सेंटर और पतंजलि स्टोर्स की संचालिका से उनके परिचित व्यापारी ने इमरजेंसी काम के बहाने से 4 लाख रुपए हड़प लिए। करीब एक साल तक परेशान होने के बाद पीड़ित ने बुधवार की शाम कोतवाली थाने पहुंचकर शकायत दी, जिस पर पुलिस ने धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है।

कोतवाली थाना प्रभारी राजेश मालवीय ने बताया कि कोतवाली बाजार में कौशल्या हैल्थ सेंटर व पतंजलि स्टोर्स की संचालिका सुश्री कमलेश ताम्रकार ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि सगड़ा तिलवारा में पतंजलि के डिस्ट्रीब्यूटर्स राकेश दुबे पतंजलि कंपनी से लाखों का सामान मंगवाता था और पैसा एडवांस में पतंजलि कंपनी के अकाउंट में डालता था। कमलेश के अनुसार राकेश से उसका व्यापारिक लेन-देन चलता था, लेकिन सितम्बर 2017 में राकेश दुबे उसकी दुकान पहुंचा और इमरजेंसी बताकर ढाई लाख रुपए ले गया और 8 दिनों में पैसा वापस करने के लिए कहा।

8 दिनों बाद राकेश दोबारा आया और फिर मदद के नाम पर डेढ़ लाख रुपए ले गया। काफी समय बीतने पर भी राकेश ने उसके पैसे वापस नहीं दिए। राकेश ने 2 चैक भी दिए थे, लेकिन दोनों बाउंस हो गए। इस तरह राकेश ने कमलेश के 4 लाख रुपए हड़प लिए। पुलिस ने शिकायत पर धारा 420 का अपराध दर्ज कर आरोपी राकेश दुबे की तलाश शुरू कर दी है।