comScore

आयुर्विज्ञान केंद्र में रजिस्ट्रार बनाने सीएम की फर्जी नोटशीट चलाई

आयुर्विज्ञान केंद्र में रजिस्ट्रार बनाने सीएम की फर्जी नोटशीट चलाई

डिजिटल डेस्क जबलपुर । आयुर्विज्ञान केंद्र जबलपुर में रजिस्ट्रार की नियुक्ति कराने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम फर्जी नोट शीट चलाने वाले जालसाजों को भोपाल क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गये जालसाजों द्वारा शहर के चिकित्सक से इस पद पर नियुक्ति के लिए दस लाख की डिमांड की गयी थी। इस  गिरोह का मुख्य सरगना अभी फरार है जिसकी तलाश की जा रही है। जानकारों के अनुसार पकड़े गये आरोपियों को जबलपुर लाकर ठगी के शिकार हुए चिकित्सक के सामने पूछताछ की जा सकती है। 
 सूत्रों के अनुसार सोमवार को डॉ. हरि सिंह चौरसिया ने क्राइम ब्रांच भोपाल को शिकायत देकर बताया था कि जबलपुर आयुर्विज्ञान केंद्र में रजिस्ट्रार नियुक्त कराने के लिए सौरव मौर्य  व इंद्रजीत नामक व्यक्तियों ने उनसे संपर्क किया और रजिस्ट्रार पद पर नियुक्ति दिलाने के लिए दस लाख की डिमांड की थी। उनके द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नाम से नोट शीट बनाई गई और उसमें सीएम के जाली साइन व सील लगाकर नोट शीट आगे बढ़ाई गई थी। नोट शीट देखकर उन्हें संदेह हुआ था जिसके बाद उन्होंने  इसकी शिकायत क्राइम ब्रांच भोपाल में की थी। शिकायत की जाँच करते हुए क्राइम ब्रांच की टीम ने सौरव मौर्य व उसके साथी ग्वालियर निवासी इंद्रजीत को भोपाल से गिरफ्तार कर लिया है, वहीं मुख्य सरगना शैलेंद्र भदौरिया बताया जा रहा है जो कि अभी फरार है। 
आईएसएफ अफसर से 10 लाख की ठगी
 सूत्रों के अनुसार पकड़े गये आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि जालसाजों के द्वारा इसी तरह  दो साल पहले भोपाल में एक आईएफएस अफसर से 10 लाख की ठगी की गयी थी। उक्त मामले में धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज होने के बाद से आरोपी फरार थे। वहीं पकड़े गये आरोपियों से कई मामलों का खुलासा होने की संभावना जताई जा रही है। 
इनका कहना है
जबलपुर के चिकित्सक को रजिस्ट्रार बनाने के नाम पर फर्जीवाड़ा किए जाने की  शिकायत क्राइम ब्रांच को मिली थी। उक्त शिकायत की जाँच कर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। 
-निश्चल झारिया एएसपी क्राइम ब्रांच भोपाल

कमेंट करें
M7flJ