comScore

संत ज्ञानेश्वर महाराज की पालकी पंढरपुर हुई रवाना 

संत ज्ञानेश्वर महाराज की पालकी पंढरपुर हुई रवाना 

डिजिटल डेस्क, पुणे। रंगबिरंगी, आकर्षक फुलों से सजी बसों से संत तुकाराम महाराज की पालकियां पंढरपुर रवाना कर दी गई। आषाढ़ी एकादशी के उपलक्ष्य में मंगलवार को आलंदी से संत ज्ञानेश्वर और देहू से पालकी रवाना हुईं। इस मौके पर महज 20 वारकरी उपस्थित थे। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण राज्य सरकार ने इस साल पैदल पालकी समारोह रद्द किया था, लेकिन परंपरा खंडित न हो, इस लिए संत ज्ञानेश्वर और संत तुकाराम महाराज की पालकियां आषाढ़ शुद्ध दशमी को सकरारी वाहन से पंढरपुर पहुंचाने का निर्णय लिया गया। इस अनुसार मंगलवार को आलंदी से संत ज्ञानेश्वर और देहू से संत तुकाराम महाराज की पालकियां रवाना कर दी गईं। इससे पहले तड़के दोनों मंदिरों में पूजा की गई। मंदिर परिसरों में रंगोली बनाई गई थी। ज्ञानेश्वर माऊली, ज्ञानराज माऊली तुकाराम, विठ्ठल विठ्ठल के जयघोष से आलंदी और देहू गूंज उठे थे। 

सभी वारकरियों का किया गय कोरोना टेस्ट

दोनों पालकियों समेत प्रत्येक पालकी में 20 वारकरियों को ही जाने की मंजूरी दी है। इन सभी वारकरियों की शनिवार को कोरोना टेस्ट किया गया था। साथ ही दोनों बसों को भी सैनिटाइज किया गया। बसें सीधे पंढरपुर रुकेंगी। बीच में कहीं भी बसों को रोका नहीं जाएगा।   

कमेंट करें
tTlSI