दैनिक भास्कर हिंदी: सरनाईक को आई भाजपा की याद, उद्धव से कहा - मोदी से दोबारा हाथ मिला लीजिए

June 20th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच में घिरे प्रदेश में सत्ताधारी शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक को केंद्र सरकार में सत्तारूढ़ और पुरानी सहयोगी भाजपा की याद आई है। ठाणे से विधायक सरनाईक ने शिवसेना पक्ष प्रमुख तथा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर भाजपा के साथ दोबारा गठबंधन करने का आग्रह किया है। उन्होंने महाविकास आघाड़ी सरकार में शिवसेना की सहयोगी राकांपा और कांग्रेस पर हमला बोला है। सरनाईक ने मुख्यमंत्री से कहा है कि आप एक बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाथ मिला लीजिए। यह मेरा व्यक्तिगत विचार है। इससे मुझे, राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब, शिवसेना विधायक रवींद्र वायकर और उनके परिवारों को बिना कारण दी जाने वाली तकलीफ बंद हो जाएगी। सरनाईक ने कहा कि अगले साल मुंबई, ठाणे समेत कई महानगर पालिकाओं के चुनाव हैं। राज्य में शिवसेना और भाजपा की युति टूट गई है लेकिन भाजपा के नेताओं से पुराने संबंध कायम हैं। इसलिए शिवसेना और भाजपा का दोबारा गठबंधन होता है तो उसका फायदा मुझे और भविष्य में पार्टी को होगा। 

सरनाईक ने कहा कि कोई अपराध और गलती न करने के बावजूद केंद्रीय जांच एजेंसियों की ओर से मुझे परेशान किया जा रहा है। मुझे झूठे मामलों में फंसाया जा रहा है। मुझे और मेरे परिवार को लगातार निशाना बनाया जा रहा है। एक मामले में जमानत मिलते ही जानबुझकर दूसरे मामले में फंसाया जा रहा है। दूसरे मामले में राहत मिलते ही तीसरे मामले को उजागार किया जा रहा है। 

सरनाईक ने कहा कि केंद्रीय केंद्रीय जांच एजेंसियों के दलाल और शिवसेना के कारण पूर्व सांसद बने किरीट सोमैया लगातार मेरी बदनामी कर रहे हैं। सरनाईक ने कहा कि महाविकास आघाड़ी सरकार के कुछ मंत्री और कुछ अधिकारी केंद्रीय जांच एजेंसियां उनके पीछे न लगे। इसके लिए मुख्यमंत्री को अनभिज्ञ रखकर केंद्र सरकार में सत्ताधारी भाजपा के साथ छूपा समझौता किया जा रहा है।

राकांपा शिवसेना के नेताओं को तोड़ रही

सरनाईक ने कहा कि महाविकास आघाड़ी की सहयोगी दल कांग्रेस आगामी अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा की है। दूसरी ओर राकांपा दूसरे दलों के बजाय शिवसेना के नेताओं और कार्यकर्ताओं को तोड़ रही है। कांग्रेस और राकांपा शिवसेना को कमजोर कर रही है। 

शिवसेना के विधायकों के नहीं होते काम

सरनाईक ने कहा कि मैंने शिवसेना के कई नाराज विधायकों से चर्चा की है। उनका कहना है कि कांग्रेस और राकांपा के विधायकों के काम जल्दी होते हैं। मुख्यमंत्री शिवसेना के होने के बावजूद हमारा काम नहीं हो पाता है। कांग्रेस और राकांपा को मजबूत करने के लिए महाविकास का गठन किया गया है क्या? इस तरह की चर्चा शिवसेना के विधायकों में है।  

जेल जाने के डर से लिखा पत्र- सोमैया 

भाजपा के पूर्व सांसद किरीय सोमैया ने कहा कि सरनाईक ने घोटाला किया है। उन्हें जेल का दरवाजा नजर आने लगा है। इसलिए उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। आने वाले दिनों में मंत्री परब भी इस तरह का पत्र लिख सकते हैं। वे कुछ भी लिखें लेकिन शिवसेना के आधा दर्जन नेताओं को जेल में जाना ही पड़ेगा। सोमैया ने कहा कि उद्धव की शिवसेना कोरोना में भ्रष्टाचार करने वाली सेना है।   

बिना कारण तकलीफ देना गंभीर आरोप - राऊत 

शिवसेना सांसद संजय राऊत सरनाईक ने कहा है कि विधायकों को जानबूझकर बिना कारण तकलीफ देने की कोशिश हो रही है। यह बहुत ही गंभीर आरोप है। बिना कारण तकलीफ कौन और किसको दे रहा है? यह महत्वपूर्ण मुद्दा है।
शिवसेना और राकांपा में मतभेद नहीं होगा- पाटील
राकांपा प्रदेश अध्यक्ष तथा प्रदेश के जलसंसाधन मंत्री जयंत पाटील ने कहा कि मुझे विश्वास है कि इस पत्र से शिवसेना और राकांपा के बीच कोई मतभेद पैदा होगा। पाटील ने कहा कि सरनाईक के निर्वाचन क्षेत्र में कोई मामला हुआ होगा तो उसको देख लिया जाएगा।   

शिवसेना का अंतर्गत मामला- पटोले 

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि सरनाईक शिवसेना के विधायक हैं। यह शिवसेना का अंतर्गत मामला है। कांग्रेस सहयोगी दलों के मामले में हस्तक्षेप नहीं करती है। 

खबरें और भी हैं...