दैनिक भास्कर हिंदी: जम्मू कश्मीर : उरी सेक्टर में घुसपैठ करते 2 आतंकी ढेर, ऑपरेशन जारी

November 5th, 2017

डिजिटल डेस्क,उरी। रविवार सुबह जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में सुरक्षाबल ने आतंकियों की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया। सुरक्षाबलों ने घाटी के उरी में घुसपैठ की कोशिश कर रहे दो आतंकवादियों को मार गिराया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इलाके में अभी भी आतंकियों के छुपे होने की आशंका है, इसी के तहत सुरक्षाबल सर्च ऑपरेशन चला रहा है। आपको बता दें कि आतंकियों ने 4 नवंबर की रात पुलवामा जिले में पुलिस दल पर हमला किया था। पुलिस के मुताबिक 'आतंकवादियों ने पुलवामा में राजपुरा पुलिस थाने के बाहर पुलिसकर्मियों पर गोलीबारी की। हमले में 1 जवान शहीद हो गया था। 

2 नवंबर को पुलिस काफिले पर हुआ था हमला 

इससे पहले 2 नवंबर को भी अनंतनाग जिले में एक आतंकवादी हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के दो जवान घायल हुए थे। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया था, 'सीआरपीएफ की 96 बटालियन का एक काफिला मत्तान शहर लौट रहा था, तभी अचानक आतंकवादियों ने काफिले पर हमला कर दिया। काफिले में 6 बसें थीं।' अधकारी ने ये बी बताया कि, 'हमले के बाद जवाबी कार्रवाई की गई थी, लेकिन आतंकी भाग निकले थे। उस दौरान दो जवान मामूली रूप से घायल हो गए।

ये भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: पुलवामा जिले के राजपोरा पुलिस स्टेशन पर आतंकी हमला, 1 शहीद

29 अक्टूबर की मुठभेड़ में मारे गए थे 2 आतंकी 

इससे पहले 29 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में सिक्योरिटी फोर्सेस की तरफ से चलाए जा रहे ऑपरेशन में 2 आतंकी मारे गए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये आतंकी लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े हुए थे। इसके साथ ही आतंकियों के साथ मुठभेड़ में एक SOG जवान जहीर अहमद भी शहीद हो गए थे। इस मुठभेड़ के विरोध में कुछ कश्मीरियों ने सिक्योरिटी फोर्सेस पर पथराव भी किया था। 

ऑपरेशन ऑलआउट जारी 

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में टेररिस्ट एक्टिविटी को बढ़ता देख सुरक्षाबलों ने कश्मीर में ऑपरेशन ऑलआउट चला रखा है और ये काफी हद तक कामयाब भी रहा है। अक्टूबर की शुरुआत में आई रिपोर्ट के मुताबिक, सिक्योरिटी फोर्सेस ने इस साल अब तक 150 आतंकियों को मार गिराया है। जबकि बताया जा रहा है कि कश्मीर घाटी में अभी भी 250 से ज्यादा आतंकी एक्टिव हैं। वहीं इस साल घाटी में अब तक 291 आतंकियों ने घुसपैठ की कोशिश की, जिसमें से 80 आतंकी कामयाब हुए हैं।