कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने निरीक्षण के दौरान दिए सखत निर्देश: आईएसबीटी में बढ़ेगी सुरक्षा, सीसीटीवी कैमरे, गार्ड बढ़ेंगे, बनेगी बाउंड्रीवॉल बनेगी

February 27th, 2022

डिजिटल डेस्क डेस्क जबलपुर। आईएसबीटी में हर इंतजाम पुख्ता होंगे यहां जो भी परेशानी आ रही हैं उनका समाधान किया जायेगा। यह निर्देश कलेक्टर डा. इलैयाराजा टी ने रविवार को िनरीक्षण के दौरान दिये। दोपहर 12 बजे वे दीनदयाल अंतर्राज्जीय बस स्टैण्ड पहुंचे और 2 घंटे तक निरीक्षण कर पूरा क्षेत्र घूमा और इसके बाद बस ऑपरेटरों और अधिकारियों के साथ मीटिंग की। कलेक्टर ने कहा कि यहां सुरक्षा की बहुत जरूरत है इसलिये सुरक्षा के लिहाज से सीसीटीवी कैमरे और सुरक्षा गार्ड की संख्या बढ़ाई जाये। उन्होंने कहा कि परिसर के चारों तरफ बाउंड्रीवॉल बनाई जाये इसमें अगर 93 लाख रूपये खर्च हो रहे हैं तो ऐसा काम करें कम पैसे में ही दीवार तैयार हो जाये भले ही उसकी हाईट थोड़ी कम रहे। जिस पर अधिकारियों ने बताया कि लगभग 1 करोड़ रूपये से आईएसबीटी का एक्सटेंशन किया जाना है। इस दौरान निगमायुक्त आशीष वशिष्ट, सीईओ जिपं डॉ. सलोनी सिडाना, अपर कलेक्टर राजेश बाथम, एएसपी संजय कुमार अग्रवाल, जेसीटीएसएल सीईओ सचिन विश्वकर्मा आदि मौजूद रहे।
गेट खोलने में बाधक बन रही सामग्री हटाएं
बस स्टैण्ड का बंद गेट देखने कलेक्टर पहुंचे तो वहां बड़ी मात्रा में सामग्री रखी मिली। उन्होंने पूछा कि यह कैसे यहां रखा है तो बताया गया कि यह रामलीला समिति के रथ व अन्य सामग्री है उन्होंने इसे तत्काल हटाने के निर्देश दिये। इसके साथ ही अधिकारियों को निर्देश दिए की जो भी टेक्नीकल खामियां इस गेट को खोलने में आ रही हैं उसका निराकरण करें चाहे वह ट्रैफिक से संबंधित हो या फिर कब्जे को लेकर या ब्लैक स्पॉट की सभी को दूर करें और 3 दिन में िरपोर्ट देकर गेट खोलने पर विचार करें। इस मामले में बस ऑपरेटरों से भी बात करें कि उन्हें क्या परेशानी होगी।
तालाब की जमीन कहां तक नजरी नक्शा करें तैयार
आईएसबीटी से लगे माढ़ोताल तालाब के बारे में उन्होंने अधारताल एसडीएम नम: शिवाय अरजरिया और तहसीलदार राजेश सिंह से कहा कि इसका नजरी नक्शा तैयार करें ताकि पता चल सके कि आईएसबीटी की जमीन कहां तक है और कितने एरिया में तालाब है, कौन सी जमीन निजी है जिससे यहां विकास कार्य उसी अनुसार किया जा सके। वहीं कामर्शियल यूज की भूमि को भी देखें इसके बाद ही यहां काम आगे बढ़ाएं।
अब चालान नहीं सीधे जब्त करें बस
बस ऑपरेटरों को उन्होंने आखिरी समझाईश दी कि बस स्टेण्ड को व्यवस्थित करना है। इसलिए जो भी सवारियां बैठाई जायें वे अंदर से ही बैठें। उन्होंने आरटीओ संतोष पाल से कहा कि अगर स्टेण्ड के बाहर से कोई बस ऑपरेटर सवारियां बैठाता मिले तो अब चालानी कार्रवाई नहीं करनी है बल्कि बस की जब्ती बनाई जाये।
ये व्यवस्थाएं दुरूस्त रहें
0 परिसर में और आसपास सफाई कराएं
0 पेयजल की व्यवस्स्था करें
0 शौचालयों की सफाई रहे और ये बंद न रहें
0 ई रिक्शा के लिए चार्जिंग प्वाईंट बढ़ाएं जायें
0 वाहन पार्किंग में ही खड़े हों।
0 सीएनजी स्टेशन बनाने परीक्षण करें।
बस ऑपरेटरों और व्यापारियों की सुनी बात
कलेक्टर ने निरीक्षण के बाद बस ऑपरेटरों और व्यापारियों के साथ बैठक की और उन्होंने सभी की बात सुनी और उनके सुझाव लिए। उन्होंने पूछा कि पिछली बैठक में जो निर्देश दिये गये थे उसका पालन हुआ कि नहीं। बस ऑपरेटरों ने बताया कि बस को छोडऩे की टाईमिंग कम होने से पीछे के नंबर वाली बस आकर खड़ी हो जाती है। जिससे आये दिन विवाद की स्थिति बनती है। पिकअप प्वाइंट पर दो मिनट का समय दिया जाये जिस पर कलेक्टर ने कहा यह नहीं हो सकता। इस दौरान डीके मिश्रा, राजेश सेन, सुधीर विश्वकर्मा सहित अन्य लोगों ने अपनी बात रखी।