comScore

भाजपा के विरोध में शिवसेना के बागी, अंतिम दिन दाखिल कराया नामांकन 

भाजपा के विरोध में शिवसेना के बागी, अंतिम दिन दाखिल कराया नामांकन 

डिजिटल डेस्क, नागपुर। भाजपा के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ रही शिवसेना के कुछ नेताओं ने खुली बगावत शुरु कर दी है। शुक्रवार को नामांकन पत्र दाखिल कराने के अंतिम दिन शिवसेना नेताओं ने निर्दलीय नामांकन दर्ज कराया। प्रमुख नेताओं में दक्षिण नागपुर सीट से किशोर कुमेरिया व रामटेक सीट से आशीष जैस्वाल शामिल है। जिले में विधानसभा की 12 सीटें है। गठबंधन के तहत शिवसेना के हिस्से में कोई भी सीट नहीं आयी है। लिहाजा काफी पहले से चुनाव लड़ने की तैयारी कर चुके शिवसेना नेता बगावत करने लगे हैं। कुमेरिया उपमहापौर रहे हैं। 2009 के विधानसभा चुनाव में वे शिवसेना भाजपा गठबंधन के उम्मीदवार थे।

उस चुनाव में भाजपा के पूर्व विधायक मोहन मते ने बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ा था। कांग्रेस उम्मीदवार ने कुमेरिया व मते को पराजित किया था। इस बार दक्षिण सीट पर ही भाजपा ने मोहन मते को उम्मीदवार बनाया है। उनके विरोध में कुमेरिया ने पर्चा भरा है। दक्षिण में भाजपा में भी बगावत सामने आयी है। गुरुवार को भाजपा के नगरसेवक सतीश होले ने भी नामांकन दर्ज कराया है। उधर रामटेक सीट से 2 बार विधायक रहे आशीष जैस्वाल ने भाजपा उम्मीदवार डी.मलिकार्जुन रेड्‌डी के विरोध में पर्चा भरा है।

2009 के चुनाव में भाजपा शिवसेना ने अलग अलग चुनाव लड़ा था। जैस्वाल पराजित हुए थे। इस बार रामटेक सीट के लिए शिवसेना आखिरी तक दावा करती रह गई। जैसल का कहना है कि शिवसेना भाजपा के नेताओं से उनकी शिकायत नहीं है। लेकिन भाजपा उम्मीदवार के साथ वे चुनाव में कार्य नहीं कर पाएंगे। भाजपा उम्मीदवार का व्यवहार ठीक नहीं है। कुमेरिया, जैस्वाल की बगावत को लेकर भाजपा शिवसेना के नेता क्या निर्णय लेते हैं यह तय नहीं है। कुमेरिया के समर्थन में शिवसेना के शहर प्रमुख राजू तुमसरे,पूर्व नगरसेवक अजय दलाल जैसे पदाधिकारी थे। 

कमेंट करें
3knI7