सामना: शिवसेना ने साधा भाजपा पर निशाना, कहा- पार्टी में व्यथित हैं गड़करी 

July 25th, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मौजूदा राजनीतिक माहौल से ऊबकर राजनीति छोड़ने के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के बयान का इस्तेमाल करते हुए शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए इशारों में भाजपा नेतृत्व पर निशाना साधा है। नागपुर में दिए गए गडकरी के भाषण पर शिवसेना ने कहा है कि वे भाजपा अध्यक्ष के तौर पर दूसरा कार्यकाल न मिलने के बाद से ही व्यथित हैं। गडकरी की कई संस्थाओं पर ईडी समेत जांच एजेंसियों द्वारा छापेमारी कराई गई और साजिश के तहत उन्हें दूसरी बार भाजपा का अध्यक्ष बनने से रोक दिया गया। अगर गडकरी को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर दूसरा कार्यकाल मिला होता तो देश का राजनीतिक इतिहास पूरी तरह बदल गया होता। 

संपादकीय में गडकरी को केंद्रीय मंत्रिमंडल का सबसे अनुभवी और काबिल मंत्री बताते हुए दावा किया गया है कि वे राजनीतिक बदले की भावना से काम नहीं करते। शिवसेना ने गडकरी को शरद पवार और बालासाहेब ठाकरे की समाज नीति का समर्थक बताया है। साथ ही कहा गया है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कट्टर अनुयायी होने के चलते गडकरी को समाजनीति के लिए गटरवाली राजनीति छोड़ने की प्रेरणा नागपुर से मिलती होगी। पार्टी ने कहा है कि फिलहाल लोकतंत्र की जरूरत है कि गडकरी का किला अभेद्य रहे। संपादकीय में दावा किया गया है कि गडकरी के बयानों में जनभावना का प्रभाव दिख रहा है और मौजूदा राजनीतिक माहौल में उनका दम घुट रहा है। इसलिए मौजूदा राजनीति पर उन्होंने जानबूझकर उंगली उठाई है। संपादकीय में कहा गया है भाजपा गांधी को नहीं मानती फिर भी गडकरी ने उनका उदाहरण दिया यह महत्वपूर्ण है। साथ ही शिवसेना के बागियों पर निशाना साधते हुए कहा गया है कि कुछ लोग सबकुछ पाने के बाद भी अपनो के साथ धोखा करते हैं।