8 टन शार्क फिश के पंख सहित धराए चार स्मग्लर, कीमत करीब 40 करोड़

Smugglers arrested with 8 tonnes fins of shark, worth rs 40 crores
8 टन शार्क फिश के पंख सहित धराए चार स्मग्लर, कीमत करीब 40 करोड़
8 टन शार्क फिश के पंख सहित धराए चार स्मग्लर, कीमत करीब 40 करोड़

डिजिटल डेस्क, मुंबई। डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस ने शार्क मछलियों के पंख (फिन) काटकर उनकी तस्करी करने वाले एक अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश करते हुए चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। मुंबई और गुजरात में छापेमारी के दौरान डीआरआई ने शार्क मछलियों के आठ टन वजन के पंख बरामद किए हैं। बरामद पंखों की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में करीब 40 करोड़ रुपए बताई जा रही है। डीआरआई के एक अधिकारी के मुताबिक बरामद शार्क के पंखों को चीन और हांगकांग निर्यात किया जाना था। अधिकारियों को झांसा देने के लिए इसे मछली और सूखी मछली बताकर निर्यात करते थे।

आरोपियों की कई मछुआरों से मिलीभगत थी। शार्क मछली मारने पर पाबंदी है। साथ ही सिर्फ शार्क के पंख बरामद होने पर भी इसे शार्क की हत्या मानकर कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है। इसके बावजूद आरोपी उसके पंख काटकर मछली फिर समुद्र में छोड़ देते थे। पंख कटने के बाद मछलियां तैर नहीं पातीं और उनकी मौत हो जाती है।

20 हजार शार्क कि हत्या की आशंका 
अधिकारियों को शक है कि आरोपियों ने 20 हजार से ज्यादा शार्क मछलियों को मारा है। गुप्त सूचना के बाद डीआरआई अधिकारियों ने मुंबई के शिवड़ी इलाके में एक गोदाम पर छापा मारकर तीन टन जबकि गुजरात के वेरावल से पांच टन शार्क मछलियों के पंख बरामद किए हैं। जांच में खुलासा हुआ है कि आरोपी लंबे समय से शार्क के पंख निर्यात कर रहे थे। चीन, वियतनाम, जापान, इंडोनेशिया जैसे देशों में इनकी भारी मांग है। शार्क के पंख का इस्तेमाल सूप और दवाइयां बनाने में किया जाता है। बड़े विदेशी होटलों में शार्क के पंख के सूप की कीमत 100 डॉलर से ज्यादा होती है। डीआरआई मामले में जल्द ही कुछ और आरोपियों को गिरफ्तार कर सकती है।      
 

Created On :   3 Sep 2018 2:41 PM GMT

और पढ़ेंकम पढ़ें
Next Story