comScore

4 हजार की रिश्वत लेते पकड़ाया कोर्ट का सिपाही, एसीबी ने रंगेहाथों पकड़ा

4 हजार की रिश्वत लेते पकड़ाया कोर्ट का सिपाही, एसीबी ने रंगेहाथों पकड़ा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कामठी कोर्ट (दीवानी सत्र न्यायालय) के एक सिपाही को एसीबी ने  4 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है।  कार्रवाई के दौरान आरोपी के मकान की भी तलाशी ली गई, जिससे रिश्वत से उसके चल-अचल संपत्ति का ब्योरा मिल सके। इस मामले में कोर्ट का लिपिक भी एसीबी की जांच के दायरे में आ गया है। 

चुटकियों में काम का दावा

आरोपी सिपाही अब्दुल सलीम अब्दुल जब्बार (45) है। वह कामठी की कोर्ट में बतौर सिपाही है, जबकि शिकायतकर्ता भंडारा निवासी कम्प्यूटर मरम्मत का काम करता है। वर्ष 2013 में शिकायतकर्ता की शादी हुई। उसके कुछ दिनों बाद ही उसकी पत्नी ने शिकायतकर्ता समेत उसके माता-पिता के खिलाफ कामठी थाने में दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने मामले की जांच-पड़ताल के बाद दोषारोपण पत्र कामठी स्थित कोर्ट क्र. 605 में पेश किया। महीनों तक वह कोर्ट में तारीख पर भी माता-पिता के साथ जाता रहा। इसी दौरान उसकी पहचान कोर्ट के सिपाही आरोपी अब्दुल सलीम से हुई। अब्दुल ने उससे कहा था कि कोर्ट का कोई काम हो, तो वह उसे जरूर बताए। जान-पहचान होने से वह उसका काम चुटकियों में कर देगा, मगर शिकायतकर्ता ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया, क्योंकि उसने रिश्वत की मांग की थी।  वर्ष 2015 में शिकायकर्ता के पिता का स्वास्थ्य खराब हो गया। इसकी लिखित में जानकारी कोर्ट को दी गई है। 

मोबाइल नंबर बदलकर कॉल किया

शिकायतकर्ता का प्रकरण नागपुर में पारिवारिक कोर्ट में स्थानांतरित हो गया, जिससे वह नागपुर में पेशी पर आने लगा, मगर उसकी पेशी नहीं होती थी। फाइल गायब होने से वह कोर्ट के चक्कर लगाता रहा। इस बीच आरोपी रिश्वत की रकम के लिए शिकायतकर्ता को फोन करने लगा। त्रस्त होकर उसने मोबाइल नंबर बदल दिया। नागपुर में पारिवारिक कोर्ट में अब्दुल सलीम का मित्र सिपाही है। उसके मित्र के जरिए अब्दुल सलीम ने शिकायकर्ता का मोबाइल नंबर प्राप्त कर फिर से रिश्वत की रकम के लिए धमकी देने लगा। रिश्वत नहीं देने पर संबंधित अदालत में लिपिक को बोल कर उसके पूरे परिवार के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने की बात कही। आरोपी ने रिश्वत में लिपिक की भी हिस्सेदारी होने की बात शिकायतकर्ता से कही। बरामद रिकार्डिंग में भी इसका जिक्र है। 

4 हजार रुपए लेकर बुलाया

अब्दुल सलीम से त्रस्त होकर शिकायकर्ता ने मामले की एसीबी से शिकायत की। इसकी गंभीरता से अब्दुल सलीम को रंगेहाथ पकड़ने की योजना बनाई गई। तय योजना के तहत  अब्दुल सलीम ने शिकायतकर्ता को रिश्वत के 4 हजार रुपए लेकर वर्धा रोड स्थित छत्रपति चौक में बुलाया, जहां पर उसे रंगेहाथ पकड़ा गया है। प्रताप नगर थाने में प्रकरण दर्ज कर सलीम को गिरफ्तार किया गया है। कार्रवाई के दौरान उसके मकान की भी तलाशी ली गई।

कोर्ट के अन्य लोग भी एसीबी के निशाने पर 

रिश्वतखोरी के इस मामले में नागपुर के पारिवारिक कोर्ट का सिपाही और कामठी में संबंधित कोर्ट का लिपिक भी एसीबी के जांच के दायरे में आ गया है। प्रकरण में आरोपी सलीम ने उनका नाम लिया है। कोर्ट कर्मी मित्र के जरिए शिकायतकर्ता का फोन नंबर प्राप्त करने से उस मित्र की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। 
 

कमेंट करें
IXN0K