comScore

स्टेट बार कौंसिल के चुनाव की हलचल, दावेदारों ने शुरू की तैयारी , नवंबर में चुनाव होने की संभावना

स्टेट बार कौंसिल के चुनाव की हलचल, दावेदारों ने शुरू की तैयारी , नवंबर में चुनाव होने की संभावना

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। मप्र स्टेट बार कौंसिल के नवंबर में होने वाले चुनाव की हलचल शुरू हो गई है। संभावित दावेदारों ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी है। दावेदार प्रदेश भर के वकीलों से मुलाकात कर अपनी जमीन मजबूत करने में जुटे हुए है। स्टेट बार कौंसिल के 25 सदस्यों के चुनाव के लिए प्रदेश भर के नियमित वकालत करने वाले अधिवक्ता मतदान करेंगे। मतदाता सूची तैयार करने के लिए स्टेट बार कौंसिल में पंजीकृत 88 हजार वकीलों के सत्यापन की प्रक्रिया चल रही है।

पांच वर्ष का कार्यकाल 22 मई 2019 को समाप्त हो गया
अधिवक्ताओं की नियामक संस्था स्टेट बार कौंसिल का पांच वर्ष का कार्यकाल 22 मई 2019 को समाप्त हो गया था। स्टेट बार कौंसिल के प्रस्ताव पर बार कौंसिल ऑफ इंडिया ने कार्यकाल 6 महीने के लिए बढ़ाया है। बढ़ा हुआ कार्यकाल भी 22 नवंबर 2019 को समाप्त हो रहा है। इसको देखते हुए दावेदारों ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है। संभावित दावेदार अपने-अपने घोषणा-पत्र के साथ वकीलों के बीच जा रहे है। 

56 हजार वकीलों का सत्यापन 

स्टेट बार कौंसिल चुनाव में नियमित वकालत करने वाले ही अधिवक्ता मतदान कर पाएंगे। चुनाव की मतदाता सूची तैयार करने के लिए स्टेट बार कौंसिल में पंजीकृत 88 हजार वकीलों के सत्यापन की प्रक्रिया चल रही है। सूत्रों का कहना है कि अभी तक केवल 56 हजार वकीलों का सत्यापन हो पाया है। 

जबलपुर से दो दर्जन दावेदार 

स्टेट बार कौंसिल चुनाव में इस बार जबलपुर से लगभग दो दर्जन दावेदार उभरकर सामने आए है। इससे जबलपुर के अधिवक्ताओं के वोट बंटने की संभावना है। स्टेट बार कौंसिल में जबलपुर से वर्तमान मे वरिष्ठ अधिवक्ता आदर्शमुनि त्रिवेदी, मनीष दत्त, मृगेन्द्र सिंह, राधेलाल गुप्ता और आरके सिंह सैनी सदस्य है।दावेदार प्रदेश भर के वकीलों से मुलाकात कर अपनी जमीन मजबूत करने में जुटे हुए है ,चुनाव के लिए प्रदेश भर के नियमित वकालत करने वाले अधिवक्ता मतदान करेंगे।  

कमेंट करें
WaCJk