comScore

बीए के 125 स्टूडेंट्स इंटरनल एग्जाम में फेल, यूनिवर्सिटी ने दिए जांच के आदेश

बीए के 125 स्टूडेंट्स इंटरनल एग्जाम में फेल, यूनिवर्सिटी ने दिए जांच के आदेश

डिजिटल डेस्क,नागपुर।  यूनिवर्सिटी द्वारा हाल ही में घोषित बीए के नतीजों में सावनेर के हरिभाऊ आदमने कॉलेज के करीब 125 विद्यार्थी फेल हो गए हैं। विद्यार्थियों को मराठी विषय के शिक्षक ने इंटरनल नंबर नहीं दिए, उन्हें सीधे तौर पर अनुपस्थित दिखाया। लिहाजा, उनका रिजल्ट 'फेल' के रूप में आया। विद्यार्थियों ने इस संबंध में शिक्षक मिलिंद साठे के खिलाफ विश्वविद्यालय की ग्रीवियंस कमेटी को शिकायत की, जिसमें विद्यार्थियों ने साठे पर पैसे मांगने के आरोप लगाए हैं। पैसे न देने पर इंटरनल परीक्षा में फेल करने की शिकायत की। कमेटी ने कॉलेज प्राचार्य डॉ.वीरेंद्र जुमडे को उपस्थित रहने का आदेश दिया।   हाल ही में कमेटी की बैठक हुई। प्रभारी प्रकुलगुरु डॉ.विनायक देशपांडे और विद्यार्थी कल्याण संचालक डॉ.अभय मुद्गल के नेतृत्व वाली इस ग्रीवियंस कमेटी ने बैठक में शिकायतकर्ता विद्यार्थियों और प्राचार्यों का पक्ष सुना।  विवि ने प्राचार्य को कॉलेज स्तर पर ग्रीवियंस कमेटी गठित करके इस प्रकरण की आंतरिक जांच करने के आदेश दिए। कॉलेज स्तरीय ग्रीवियंस कमेटी की रिपोर्ट पर गौर करने के बाद विश्वविद्यालय इस संबंध में कार्रवाई आगे बढ़ाएगा।

यह है मामला

नागपुर विश्वविद्यालय ने कुछ ही दिन पूर्व  वर्ष 2019 की ग्रीष्मकालीन परीक्षा के नतीजे जारी किए। हरिभाऊ आदमने कॉलेज के बीए प्रथम वर्ष 102, बीए सेकंड ईयर में करीब 15 और बीए फाइनल में करीब 8 विद्यार्थी मराठी विषय की इंटरनल परीक्षा में फेल दर्शाए गए। विवि की परीक्षा में 80 अंकों की थ्योरी और 20 अंक इंटरनल परीक्षा के होते हैं। विद्यार्थी इंटरनल परीक्षा में फेल हुए हैं। विद्यार्थियों का दावा है कि उन्होंने रिजल्ट जारी होने के पहले ही कॉलेज प्राचार्य को शिकायत की थी। इसके बावजूद वे फेल हो गए। ऐसे में उन्होंने विवि की ग्रीवियंस कमेटी को शिकायत की। 

प्राचार्य और शिक्षक में ठनी

विद्यार्थियों को पता चला कि शिक्षक ने उन्हें इंटरनल नंबर नहीं दिए, तो उन्होंने मेरे पास शिकायत की थी। हालांकि शिकायत में विद्यार्थियों ने मुझे कोई सबूत नहीं दिए थे। मैंने प्रारंभिक पड़ताल करके शिक्षक से जवाब मांगा तो उन्होंने कोई लिखित जवाब या अन्य कोई दस्तावेज मुझे नहीं दिया। तब तक रिजल्ट जारी हो गया। विवि ने अब मुझे कॉलेज स्तर पर ग्रीवियंस कमेटी बनाने के निर्देश दिए हैं। मैं उसका पालन करूंगा। -डॉ.वीरेंद्र जुमडे कॉलेज प्राचार्य  

प्राचार्य बदले की भावना से मुझे फंसा रहे हैं। उनके खिलाफ कॉलेज की एक महिला शिक्षिका की यौन प्रताड़ना का मामला था, जिसमें मैंने पीड़िता के पक्ष मंे गवाही दी थी। तब से कॉलेज में मुझे प्रताड़ित किया जा रहा है। मेरे खिलाफ कई प्रकार की फर्जी शिकायतें कराई गई। मैंने जिन विद्यार्थियों को इंटरनल में फेल किया, वह सही है। वे विद्यार्थी कॉलेज नहीं आए, असाइनमेंट पूरे नहीं किए, तो उन्हें नंबर किस आधार पर दिया जाए? विद्यार्थियों को पास करवाने का लालच देकर मेरे खिलाफ यह प्रकार की शिकायत कराई गई है। 

- मिलिंद साठे, शिक्षक

ग्रीवियंस कमेटी को विद्यार्थियों की शिकायत मिली है। इस पर हमने विद्यार्थियों और प्राचार्यों का पक्ष सुना। कॉलेज ग्रीवियंस कमेटी की रिपोर्ट आने पर हम कार्रवाई आगे बढ़ाएंगे। शिक्षक का पक्ष सुनने के बाद नियमानुसार कार्रवाई होगी। - डॉ.अभय मुद्गलसंचालक, विद्यार्थी कल्याण विभाग, नागपुर यूनिवर्सिटी

कमेंट करें
NpWIs