मुंबई: बीकेसी में बुलेट ट्रेन का भूमिगत स्टेशन बनाने मंगाए गए टेंडर

July 22nd, 2022

-    सरकार बदलते ही आई मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन के काम में तेजी 
-    देश के पहले बुलेट ट्रेन स्टेशन के निर्माण पर खर्च होगा 800 करोड़ 

 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य में सरकार बदलते ही बुलेट ट्रेन परियोजना ने भी रफ्तार पकड़ ली है। मुंबई के बांद्रा कुर्ला कांप्लेक्स (बीकेसी) में प्रस्तावित अंडर ग्राउंड बुलेट ट्रेन स्टेशन के लिए शुक्रवार को टेंडर मंगाए गए हैं। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) ने सी-1 पैकेज के तहत हाईस्पीड रेल स्टेशन के डिजाइन और निर्माण के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं। अहमदाबाद से मुंबई के बीच प्रस्तावित  बुलेट ट्रेन का यह इकलौता भूमिगत स्टेशन होगा। 

एनएचएसआरसीएल के एक अधिकारी ने बताया कि स्टेशन पर कुल 6 प्लेटफॉर्म होंगे और हर प्लेटफॉर्म की लंबाई 415 मीटर की होगी। जिससे 16 डिब्बों वाली बुलेट ट्रेन उस पर ठीक तरीके से खड़ी हो सकेगी। स्टेशन को मेट्रो ट्रेन और सड़क मार्ग से भी जोड़ा जाएगा। प्लेटफॉर्म जमीन से 24 मीटर गहराई पर बनाया जाएगा और यह तीन मंजिलों का होगा। प्लेटफॉर्म, यात्रियों के लिए खुला जगह (कॉनकोर्स) और सर्विस फ्लोर तीन अलग-अलग मंजिलों पर बनाए जाएंगे। स्टेशन में दाखिल होने और बाहर जाने के लिए 2 प्रवेश और निकासी द्वार बनाए जाएंगे। एक निकास द्वार मेट्रो स्टेशन की ओर होगा जिससे आसानी से मेट्रो पकड़ी जा सके जबकि दूसरा द्वार एमटीएनएल भवन की ओर होगा। स्टेशन इस तरह बनेगा कि यात्रियों को भीड़भाड़ की असुविधा से बचाने के लिए कॉनकोर्स और प्लेटफॉर्म पर पर्याप्त जगह हो। 

स्टेशन तक प्राकृतिक रोशनी पहुंचे इसकी भी व्यवस्था की जाएगी। स्टेशन पर सुरक्षा जांच, टिकट खिड़की, प्रतीक्षा क्षेत्र, बिजनेस क्लास लाउंज, नर्सरी, विश्राम कक्ष, धूम्रपान कक्ष, सूचना कियोस्क, आकस्मिक राहत, सार्वजनिक सूचना प्रणाली, सीसीटीवी निगरानी जैसी भी व्यवस्था रहेगी। एनएचएसआरसीएल के मुताबिक प्रस्तावित काम में बीकेसी स्टेशन के अलावा सी 1 पैकेज टेंडर में 467 मीटर की कट और कवर लंबाई के साथ 66 मीटर का वेंटिलेशन शाफ्ट भी शामिल होगा। इसके अलावा 21 किलोमीटर लंबे भूमिगत रास्ते के लिए भी नए सिरे से टेंडर मंगाए गए हैं। 4.90 हेक्टेयर में बनने वाले बुलेट ट्रेन स्टेशन पर अनुमानित 800 रुपए खर्च होंगे। टेंडर भरने की प्रक्रिया 13 अक्टूबर से शुरू होगी जबकि 21 अक्टूबर को टेंडर खोले जाएंगे।