टेंडर शर्त के अनुसार नहीं हो पा रहे ब्रिज के काम: ब्रिज के अधूरे काम बारिश में लोगों को करेगे परेशान

June 22nd, 2022

डिजिटल डेस्क,सिवनी। बारिश करीब है और जिले में कई ब्रिजों का काम अधूरा है। ऐसे में तेज बारिश होने पर लोगों को परेशान होना पड़ सकता है। निर्माण कार्य काफी धीमे हैं तो कहीं कहीं निर्देशों के बाद भी कामों में रफ्तार नहीं आई। टेंडर शर्त के अनुसार काम नहीं हो पा रहा। सिवनी से मंडला मार्ग पर मुनगापार में सागर नदी पर ब्रिज का काम आज तक पूरा नहीं हो पाया। करीब पांच साल से इसका काम चल रहा है। हर साल बाढ़ आने पर रास्ता बंद हो जाता है। ऐसे हालात इस बार भी बन सकते हैं। कुरई ब्लॉक के हलाल से बेलपेठ मार्ग पर पेंच नदी पर बना ब्रिज को शुरु तो कर दिया गया लेकिन रोड के उपर मुरम डाल दिया गया। लोगों का कहना है कि तेज बारिश में बाढ़ आने पर फिर से ब्रिज के दोनों ओर का सड़क से जुड़ा हिस्सा बह सकता है।

दो ब्रिज बहे लेकिन दूसरे नहीं बने-

दो साल पहले अतिवृष्टि से भीमगढ़ और सुनवारा में बाढ़ के कारण दो ब्रिज बह गए थे। अब तक उनकी जगह नए पुल बनाने के लिए कोई काम नहीं हुआ। ऐसे में बारिश में लोगों को फिर से परेशानी होगी। ज्ञात हो कि खापा से भीमगढ़ मार्ग पर और धनोरा मार्ग पर सुनवारा में ब्रिज बाढ़ में बह गए थे। संभवत यह पहला मामला था जहां दो नए ब्रिज बहे थे। क्षेत्र के कुसुमलाल परते, शैलू श्रीवास्तव और राजा खान बताते हैं कि ब्रिज नहीं होने से दिक्कतें हो रहीं हैं। बारिश में लोग परेशान होंगे।

यहां पर काम है धीमा-

जानकारी के अनुसार घोघरीमाल से खमरिया मार्ग पर हालोन नदी पर 3.98 करोड़ का ब्रिज 60 प्रतिशत बना है। यही हाल चिरईडोंगरी से छिपीधर मार्ग का 3.23 करोड़ का ब्रिज का काम 15 प्रतिशत ही हुआ है। चिरईडोंगरी में थांवरी नदी में 9.52 करोड़ का ब्रिज का आधा काम भी नहीं हुआ। गोरखपुर नाले के उपर बन रहा 2 करोड़ का ब्रिज 75 प्रतिशत बना है। जबकि इनके काम इस साल बारिश के पहले पूरे होने थे। ब्रिजों के तेजी से बनाने की मांग काफी समय से की जा रही है लेकिन विभागीय स्तर पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही।