दैनिक भास्कर हिंदी:  बहुचर्चित खटुआ हत्याकाण्ड -आरोपियों को पकडऩे एसपी को मिली चार सप्ताह की और मोहलत

November 5th, 2019

डिजिटल डेस्क जबलपुर । जीसीएफ के चार्जमैन एससी खटुआ की हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए हाईकोर्ट ने जबलपुर एसपी को चार सप्ताह का और समय दिया है। सोमवार को जस्टिस विशाल धगट के समक्ष हाजिर हुए एसपी अमित सिंह ने कहा कि मामले की जांच बारीकी से की जा रही है और आरोपियों का सुराग देने वालों को दस हजार रुपए का ईनाम देने की भी घोषणा की गई है। उन्हें उम्मीद है कि आरोपी जल्द ही गिरफ्तार कर लिए जाएंगे। इस पर अदालत ने सुनवाई एक माह के लिए मुल्तवी कर दी।
हत्या के तार धनुष आर्टलरी गन की सीबीआई जांच से जुड़े हैं
मौसमी खटुआ की ओर से दायर इस याचिका में कहा गया है कि उसके पति एससी खटुआ (अब स्वर्गीय) जीसीएफ फैक्ट्री में कार्यरत थे और धनुष तोप में इस्तेमाल होने वाली चीनी बैरिंग के मामले में उन्हें संदिग्ध मानकर उनसे पूछताछ की जा रही थी। 17 जनवरी 2019 की सुबह उसके पति घर से निकले लेकिन वापस नहीं लौटे। उनके लापता होने की रिपोर्ट उसी दिन घमापुर थाने में दर्ज कराई गयी थी। बीस दिन बाद उसके पति की क्षत-विक्षिप्त लाश शासकीय निवास से एक किलोमीटर दूर पंप हाउस के पास 5 फरवरी 19 को मिली। याचिकाकर्ता का आरोप है कि उसके पति की हत्या के तार धनुष आर्टलरी गन की सीबीआई जांच से जुड़े हुए है। हत्या का प्रकरण दर्ज होने के आठ माह बाद भी जबलपुर पुलिस आरोपियों का कोई सुराग नहीं ढूंढ पाई। इन आधारों के साथ याचिका में हत्याकाण्ड की जांच सीबीआई से कराए जाने की प्रार्थना हाईकोर्ट से की गई है। इस मामले पर विगत 30 सितंबर को हाईकोर्ट ने जबलपुर एसपी को चार सप्ताह की आखिरी मोहलत देकर कहा था कि इस अवधि में आरोपी न पकड़े गए तो मामला सीबीआई को सौंप दिया जाएगा।
सोमवार को हुई सुनवाई के दौरान एसपी अमित सिंह हाजिर हुए और उन्होंने अदालत को भरोसा दिलाया कि आरोपी जल्द गिरफ्तार होंगे, इसलिए उन्हें समय प्रदान किया जाए। एसपी के जवाब पर अदालत ने सुनवाई चार सप्ताह के लिए मुल्तवी कर दी। याचिकाकर्ता महिला ओर से अधिवक्ता मुकेश मिश्रा व केके रजक पैरवी कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...