दैनिक भास्कर हिंदी: ऐसे चुनाव की जरूरत, जिसमें पार्टियां हार जाएं, मुल्क जीत जाए- सुरेन्द्र शर्मा

January 19th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मौजूदा दौर में राजनीतिक दलों के गठबंधन सिद्धांतों के लिए नहीं, सत्ता के लिए हो रहे हैं। अब तो उस चुनाव का इंतजार है, जिसमें राजनीतिक पार्टियां हार जाएं और मुल्क जीत जाए। देश में होने वाले हर चुनाव में मुल्क हार जाता है। हास्य सोचने से मुक्त करता है और व्यंग्य से सोचना शुरू होता है। आज व्यंग्य की जरूरत है, ताकि हम सोचना शुरू करें। यह विचार व्यंग्यकार व सुप्रसिद्ध कवि सुरेंद्र शर्मा ने दैनिक भास्कर के सहयोगियों से चर्चा के दौरान व्यक्त किए।

किसानों को कर्जमाफी नहीं, फसल की कीमत चाहिए
उन्होंने किसानों के संदर्भ में कहा कि देश के किसानों को कर्जमाफी नहीं, अपने फसल की उचित कीमत चाहिए। जो फल, सब्जी या अनाज जनता बीस रुपए किलो खरीद रही है, उसका 15 रुपए प्रति किलो का भाव चाहिए। आज किसान एकमात्र ऐसा उत्पादक है, जिसकी हालत खराब है। शर्मा ने वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य, पत्रकारिता, सरकारी नीतियों समेत कई समसामयिक विषयों पर दो टूक बात की। इस दौरान कवि सुनील जोगी भी उपस्थित थे। 

सहिष्णुता में आई है कमी
अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बयान पर हुए विवाद के संदर्भ में कवि शर्मा ने कहा कि यह सच है कि देश में सहिष्णुता में कमी आ गई है। छोटी-छोटी बातों पर हिंसक घटनाएं घट जाती हैं। बाबरी मस्जिद और ऑपरेशन ब्ल्यू स्टार के बाद अल्पसंख्यकों में डर की भावना है, जो उग्रवाद का भी कारण है। 

अच्छी बातों की चर्चा कम, विवादों की ज्यादा
कवि सुनील जोगी ने कहा कि आजकल अच्छी बातों की चर्चा कम होती है और विवादों की चर्चा ज्यादा होती है। कुछ लोग जानबूझ कर विवादित बयान देते हैं, ताकि चर्चा में बने रहें। 

आरक्षित कोच से महिलाएं कर पाएंगी सुरक्षित यात्रा
महापौर नंदा जिचकार ने लोगों से शहर में जल्द शुरू हो रही मेट्रो सेवा का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने की अपील करते हुए कहा कि इससे प्रदूषण और सड़कों पर वाहनों के बोझ को कम करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि मेट्रो के तीन कोच में से एक कोच महिलाओें के लिए आरक्षित होगा, जिससे बड़ी संख्या में महिलाएं सुरक्षित व भयमुक्त यात्रा कर पाएंगी। महापौर ने महामेट्रो की ओर से शुरू की गई ‘धावणार माझी मेट्रो विश वॉल कैंपेन’ पर भी हस्ताक्षर किए। मेट्रो की ओर से उन्हें स्मृति चिह्न प्रदान किया गया।