दैनिक भास्कर हिंदी: मानसून सत्र में प्रश्नकाल नहीं, सदस्यों के सवाल हुए लैप्स

June 27th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र विधानमंडल ने मानसून अधिवेशन के लिए दोनों सदनों के सदस्यों की ओर से प्रश्नकाल में पूछे जाने के लिए भेजे गए तारांकित प्रश्न, आधे-घंटे की चर्चा और अन्य संसदीय आयुध के जरिए स्वीकृत प्रश्नों को लैप्स कर दिया है। 5 जुलाई से शुरू होने वाले दो दिवसीय मानसून अधिवेशन में प्रश्नकाल नहीं होगा। इससे दोनों सदनों में सदस्य प्रश्नकाल के माध्यम से जनहित के मुद्दे नहीं उठा पाएंगे।

विधानमंडल की ओर से इस संबंध में आदेश जारी किया गया है। इसके मुताबिक विधानमंडल कामकाज सलाहकार समिति में हुए फैसले के आधार पर सदन के लिए स्वीकृत प्रश्नों को लैप्स कर दिया गया है। मानसून अधिवेशन में सरकार की ओर से सदन में पूरक मांगें पेश की जाएंगी। अध्यादेश और विधेयकों को केवल सदन के पटल पर रखा जाएगा। इसके अलावा शोक प्रस्ताव को मंजूर किया जाएगा। दरअसल, विधानमंडल के अधिवेशन से पहले सदन में प्रश्नकाल के दौरान सवाल पूछने के लिए सदस्यों से ऑनलाइन तारांकित प्रश्न मंगाए जाते हैं।

इस बार भी मानसून अधिवेशन के लिए विधान परिषद के सदस्यों से 6 मई और विधानसभा के सदस्यों से 12 मई से प्रश्न मंगाए गए थे। दोनों सदनों के सदस्यों से 5 से 30 जुलाई तक के लिए तारांकित प्रश्न मंगाए गए थे। विधायको के सवालों को लेकर संबंधित मंत्रियों को 28 जून से 22 जुलाई के बीच लिखित जवाब देना था। लेकिन कोरोना महामारी और कोविड के नए डेल्टा प्लस वैरिऐंट के खतरे के मद्देनजर मानसून अधिवेशन केवल दो दिनों के लिए आयोजित करने का फैसला लिया गया है। इस कारण सदन में सदस्यों को पूछने के लिए स्वीकृत तारांकित प्रश्नों को लैप्स कर दिया गया है। 

खबरें और भी हैं...