comScore

समाज में नफरत फैलाने के लिए हो रहा है टिकटॉक का इस्तेमाल, अफवाह फैलाने वालों पर शिकंजा

समाज में नफरत फैलाने के लिए हो रहा है टिकटॉक का इस्तेमाल, अफवाह फैलाने वालों पर शिकंजा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। समुदायों के बीच नफरत फैलाने के लिए ज्यादातर नई पीढ़ी द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले टिकटॉक का भी धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है। हाल ही में टिकटॉक का इस्तेमाल कर समुदायों के बीच नफरत फैलाने के आरोप पर हिंगोली में 7 मामले दर्ज किए गए, जबकि राज्य में टिकटॉक का इस्तेमाल नफरत फैलाने के आरोप में 18 मामले दर्ज हुए। शायद यही वजह है कि सोमवार को महाराष्ट्र साइबर सेल की ओर से अभिभावकों से अपील की गई है कि वे अपने 8 से 17 साल की उम्र तक के बच्चों पर नजर रखे और नियमित रूप से इस बात की जांच करें कि वे सोशल मीडिया का दुरुपयोग तो नहीं कर यह हैं।

बता दें कि लॉकडाउन के दौरान भी कुछ लोग कोरोना संक्रमण को लेकर समुदायों के बीच नफरत फैलाने और अफवाह फैलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। महाराष्ट्र साइबर सेल अब तक 395 ऐसे मामले दर्ज कर 211 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। हालांकि व्हाट्सएप और फेसबुक का सबसे ज्यादा दुरूपयोग हो रहा है। व्हाट्सएप के जरिये 169, जबकि फेसबुक के जरिये 154 नफरत भरे संदेश फॉरवर्ड किये गए। सात मामलों में ट्विटर, जबकि चार मामलों में इंस्टाग्राम का दुरुपयोग कर नफरत और झूठ फैलाया गया।
 

कमेंट करें
mp5z9