पन्ना: सतना के अमकुई से शुरू हुई तिरंगा यात्रा का भिलसाय में हुआ समापन

August 19th, 2022

डिजिटल डेस्क, पन्ना। आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में सतना जिले के ग्राम अमकुई से शुरू हुई तिरंगा यात्रा वाहन रैली का समापन १५ अगस्त को देवेन्द्रनगर के भिलसाय ग्राम में हुआ। भिलसाय को विंध्य की हल्दी घाटी के रूप में जाना जाता है। ग्राम भिलसाय में तिरंगा यात्रा अमकुई से प्रारंभ होकर जसो, नार्गाैद, गंगवरिया, हरदुआ, खमरेही, सुंदरा, मढ़ा, फुलवारी होते हुए भिलसाय पहँुची। तिरंगा यात्रा प्रथम स्वंतत्रता संग्राम के सेनानियों अमर शहीदों पर्वत शिंह रणमत शिंह ईसा सईस जसो अमर शहीद लाल छत्रधारी सिंह दल थम्मन सिंह बड़ा कहार भदवा कोल अमकुई स्वर्गीय लाल ददन शिंह, वीर कुंअर,  मम्मा हीरामन, सिंह, वीरेंद्र सिंह, विजय सिंह, जनार्दन सिंह, वीरेंद्र सिंह सीताराम सिंह, रणमत सिंह धर्मजीत सिंह, मोतीमन सिंह, जग जीत सिंह एवं स्वर्गीय चंडी दीन चौराहा भिलसांय की पुण्य स्मरण में आयोजित की गई। भिलसाय ग्राम में तिरंगा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। स्वागत पश्चात अमर शहीद विंध्य हल्दीघाटी युद्ध भूमि स्थल भिलसाय की मिट्टी लेकर कार्यक्रम स्थल शासकीय हाई स्कूल भिलसाय में भव्य सभा का आयोजन किया गया।

तिरंगा यात्रा रैली के मुख्य अतिथि अनिल कुमार सिंह परिहार सेवानिवृत्त केंद्रीय जेल अधीक्षक द्वारा अमर शहीदों को स्मरण करते हुए विंध्य का हल्दी घाटी युद्ध भूमि का परिचय कराया गया। उद्बोधन में 1857 की क्रान्ति पर अमर शहीदो के इतिहास को बताया। 1857 का यह जलिया वाला हत्या कांड के रूप में यह दूसरा जलिया वाला हत्याकांड के रूप में बताया गया। स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की पुण्य स्थली है। कार्यक्रम का आयोजन ग्राम पंचायत भिलसांय की सरपंच श्रीमती अर्चना चौराहा एवं सचिव विवेक कुमार गौतम द्वारा किया गया। तिरंगा रैली में मुख्य रूप से सतना जिला पंचायत सदस्य विष्णु लोधी, श्रीमती संध्या कुशवाहा जनपद अध्यक्ष अर्चना, उमेश सिंह,  गोदर कारे लाल, हरि गोविंद सिंह, ब्रज बहादुर सिंह सुदेश सिंह सेवा सिंह सुशील सिंह, जगलाल कुशवाहा, मनीराम कुशवाहा, हरि जी वर्मा, हरि, दीमदिमा, आशु सिंह, राघवेंद्र सिंह, अमित सिंह, अंशु मोहित सिंह, चंद्रशेखर शर्मा, जुगल किशोर, आनंद शुक्ला,  राज किशोर शर्मा, सुरेश कुमार शर्मा, रामकरण शर्मा, रामनिवास शर्मा लक्ष्मीकांत शर्मा, राम भुवन शर्मा, पप्पू चौराहा, पुष्पेंद्र चौराहा,  कामता सिंह, चंदेल शीतल प्रसाद शर्मा, शतानंद पयासी, अरुण सिंह, शिक्षक भीष्म प्रसाद पाण्डेय, एम.एल. विश्वकर्मा फुलवारी, रामनरेश पटेल, मुन्ना लाल चौधरी, नंदू लाल चौधरी सहित हजारों की संख्या में लोगों की उपस्थिति रही।