comScore

शहडोल में मिले दो कोरोना पॉजीटिव, निजी क्लीनिक भी गया था युवक, संपर्क में आए 60 से अधिक लोग

शहडोल में मिले दो कोरोना पॉजीटिव, निजी क्लीनिक भी गया था युवक, संपर्क में आए 60 से अधिक लोग

डिजिटल डेस्क शहडोल । नगर में दो कोरोना पॉजीटिव मिले हैं। शिवम कॉलोनी के गली नंबर 4 में रहने वाले दंपति की रिपोर्ट गुरुवार रात पॉजीटिव आई है। दोनों 28 जून को मुंबई से शहडोल पहुंचे हैं। रात में ही दोनों को मेडिकल कॉलेज में भर्ती करा दिया गया है। वहीं कॉलोनी के गली नंबर 4 और 5 को कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित कर दिया गया है। दोनों मरीजों के संपर्क में अभी तक परिवारजनों सहित 60 से अधिक लोग आए हैं। 
 शिवम कॉलोनी निवासी 32 वर्षीय युवक मुंबई की एक सॉफ्टवेयर कंपनी में कार्यरत है। वह पत्नी के साथ मुंबई से ट्रेन से जबलपुर तक तथा जबलपुर से टैक्सी से 28 जून को शहडोल आया था। 28 जून को रात में ही युवक को बुखार आ गया था। 29 जून को उसने एक निजी क्लीनिक में इलाज कराते हुए मलेरिया टेस्ट कराया तथा मेडिकल स्टोर से दवाइयां भी लीं। मलेरिया रिपोर्ट निगेटिव आने व तबीयत में सुधार नहीं होने पर 2 जुलाई को कोरोना की जांच कराने पति-पत्नी मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे। देर रात दोनों की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। जिले में अब कोरोना के एक्टिव केस 7 हो गए हैं। जबकि 17 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। एक मरीज शुक्रवार को ही डिस्चार्ज किया गया।
बाहरी लोग भी आए संपर्क में 
कोरोना पॉजीटिव मिलने की जानकारी लगते ही स्वास्थ्य विभाग ने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग का काम शुरू किया गया। अब तक प्रथम संपर्क में आए जिन लोगों का पता चला है, उनमें घर के तीन सदस्य माता-पिता और बहन। घर में काम करने वाली महिला और डॉक्टर का क्लीनिक, पैथालॉजी लैब, मेडिकल स्टोर के स्टाफ व मरीज सहित 58 लोग। मेडिकल कॉलेज जिस ऑटो से गए थे और  लौटे थे, उनके ड्राइवर और जबलपुर के टैक्सी ड्राइवर का पता चला है। टैक्सी ड्राइवर जबलपुर जिले के कुंडम तहसील का निवासी है। इसकी सूचना जिला प्रशासन द्वारा जबलपुर कलेक्टर को भेज दी गई है। 
कलेक्टर-एसपी ने किया निरीक्षण 
कलेक्टर डॉ. सतेन्द्र ंिसंह एवं एसपी सतेन्द्र शुक्ल ने शिवम कालोनी पहुंचकर हालात का जायजा लिया। कलेक्टर ने सीएमएचओ डॉ. राजेश पांडेय को निर्देशित किया कि कंटनेमेंट क्षेत्र में सभी का आरटीपीसी कराया जाए। जो भी व्यक्ति कोरोना पॉजटिव मरीज के संपर्क में आए हैं वे जांच से वंचित न हों। कलेक्टर ने क्षेत्र को तत्काल सेनेटाइज करने एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं करने के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए। 
चिकित्सक और उनका स्टाफ हुआ क्वारेंटीन
प्राइवेट क्लीनिक के चिकित्सक ने खुद को होम क्वारेंटीन कर दिया है। वहीं उनके स्टाफ एवं पैथोलॉजी लैब के स्टाफ व मेडिकल स्टोर संचालक को क्वारेंटीन कर दिया गया है। प्रशासन ने क्लीनिक, पैथोलॉजी लैब और मेडिकल स्टोर को 21 दिनों के लिए सील कर दिया है। क्लीनिक में 29 जून को 40 मरीज इलाज कराने के लिए पहुंचे थे। उन सभी को भी ट्रेस करते हुए क्वारेंटीन किया जा रहा है। दोनों ऑटो चालकों का भी पता चल गया है। सभी की कोरोना जांच भी कराई जाएगी। घर के मुखिया ने बताया कि उनके घर में काम करने वाली महिला केवल उन्हीं के घर में कार्य करती है। साथ ही दूध बेचने का व्यवसाय करती है। वह नजदीकी गांव मैकी से आती है। एक टीम मैकी गांव रवाना हो गई है। जिले में पहली बार किसी मरीज के प्रथम संपर्क में इतने लोग आए हैं। इससे जिले में कम्युनिटी स्प्रेड का खतरा बढ़ गया है। 
डॉक्टर के संपर्क में 2 जुलाई तक आए सभी मरीजों की जांच होगी  
कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक संबंधित क्नीलिक भी पहुंचे, जहां कोरोना पॉजीटिव मरीज ने अपना इलाज कराया था। जानकारी प्राप्त हुई कि चिकित्सक स्वयं क्वारेंटीन हैं। उनकी क्लीनिक तथा अगल-बगल की सभी दुकानें एवं पैथालॉजी लैब बंद पाई गई। कलेक्टर ने सीएमएचओ को निर्देशित किया कि चिकित्सक ने जानकारी प्राप्त कर 29 जून से 2 जुलाई तक उनके संपर्क में आए मरीजों का कोरोना टेस्ट कराना सुनिश्चित करें। निरीक्षण के समय एसडीएम सोहागपुर धर्मेन्द्र मिश्रा, कोविड प्रभारी मेडिकल कॉलेज डॉ. आकाश रंजन सिंह, जिला संक्रामक रोग प्रभारी अधिकारी डॉ. अंशुमन सोनारे, बीएमओ सिंहपुर एवं प्रभारी शहरी क्षेत्र शहडोल डॉ. राजेश मिश्रा एवं तहसीलदार सोहागपुर बीके मिश्रा मौजूद थे। 
 

कमेंट करें
HTRWB