comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

UBI BANK SCAM : 150 करोड़ के घोटाले में 45 आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल

UBI BANK SCAM : 150 करोड़ के घोटाले में 45 आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल

डिजिटल डेस्क, मुंबई। 150 करोड़ रुपए के बैंक घोटाला मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बैंक अधिकारियों, निजी कंपनियों के अधिकारियों समेत 45 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (यूबीआई) की शिकायत के आधार पर जून 2019 से मार्च 2020 के बीच तीन एफआईआर दर्ज कर सीबीआई ने इसकी छानबीन शुरू की थी। जांच में खुलासा हुआ कि इस घोटाले में निजी कंपनियों के पदाधिकारियों के साथ यूबीआई के तत्कालीन जनरल मैनेजर, डिप्टी जनरल मैनेजर और बैंक के दूसरे अधिकारी भी शामिल हैं। आरोपियों की मिली भगत के चलते बैंक को 149 करोड़ 89 लाख रुपए का चूना लगा। छानबीन में साफ हुआ कि बैंक अधिकारियों की मिलीभगत के चलते कुछ निजी कंपनियों को लेटर ऑफ क्रेडिट दिए गए और इसके लिए जरूरी नियमों की अनदेशी की गई। यही नहीं इसके लिए सक्षम प्राधिकरण से मंजूरी तक नहीं ली गई। कर्ज देने के लिए गिरवी रखने के नियम का भी पालन नहीं किया गया। पहले मामले में 13 आरोपियों के खिलाफ 57 करोड़, दूसरे मामले में 16 आरोपियों के खिलाफ 50 करोड़ और तीसरे मामले में 16 आरोपियों के खिलाफ करीब 43 करोड़ रुपए के घोटाले मामले में आरोपपत्र दाखिल किया गया है। 

फर्जी टैक्स इनवाईस बिल का इस्तेमाल

जांच में खुलासा हुआ कि आरोपियों ने दूसरे बैंकों से लाइन ऑफ क्रेडिट लेने के लिए फर्जी टैक्स इनवाइस बिल, फर्जी तरीके से तैयार की गई लॉरी की रसीद जमा कराई और उत्पाद भेजने का दावा किया। सीबीआई के मुताबिक दीपस्टार एलॉय एंड स्टील कंपनी का अभय लोढा इस घोटाले का मास्टरमाइंड है। उसके ही इशारे पर दूसरे आरोपियों ने भी अपनी कंपनियों के फर्जी डेटा तैयार कर बैंक से लाइन ऑफ क्रेडिट लिया। लोढा ने अपने ही कर्मचारियों को सप्लायर कंपनियों का निदेशक बना दिया था जिसे दिखाकर वह बैंक से कर्ज ले रहा था। इस मामले में पूर्व डीजीएम अशोक दाबाई, पूर्व जीएम संजय शर्मा और वित्तीय सलाहकार बजरंग कानकानी आरोपों के घेरे में हैं। इसके अलावा सुपर्णा ट्रेडिंग, असुति ट्रेडिंग, एक्सेल मेटल प्रोसेसर्स, नवमी स्टील ट्रेडर्स, रत्नेश इस्पात, गीता मर्केंटाइल, संजार स्टील, महीप मार्केटिंग, जलपक ट्रेडर्स, मेटक्राफ्ट एलाय और दीपस्टार एलॉय एंड स्टील कंपनियों के निदेशक और अधिकारी आरोपों के घेरे में हैं। 
 

कमेंट करें
o7aVH