दैनिक भास्कर हिंदी: उद्धव और सीएम की नसीहत - मुख्यमंत्री पद पर अब कुछ न बोलें नेता, विधानसभा चुनाव के लिए एनसीपी ने मंगाए आवेदन

June 24th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच कटुता टालने के लिए दोनों दलों के नेताओं को बयानबाजी से बचने का आदेश दिया गया है। सोमवार को विधानमंडल के सेंट्रल हॉल में भाजपा और शिवसेना के विधायकों की संयुक्त बैठक हुई। मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा और शिवसेना के नेताओं में चल रहे वाकयुद्ध के बीच दोनों दलों के बीच अहम बैठक हुई। दोनों दलों के विधायकों की संयुक्त बैठक को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे ने संबोधित किया। सूत्रों के अनुसार बैठक में दोनों दलों के नेताओं को मुख्यमंत्री पद को लेकर मीडिया से बातचीत न करने की सलाह दी गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में कौन कितने सीटों पर लड़ेगा और मुख्यमंत्री किस दल का होगा। इसका फैसला मैं, उद्धव और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के स्तर पर होगा। दोनों दल के नेता कोई ऐसा बयान न दे जिससे कि भाजपा और शिवसेना कार्यकर्ताओं में दूरी बढ़े। बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में वरिष्ठ भाजपा नेता व राज्य के वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि भाजपा-शिवसेना एक साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ेगे और 220 से अधिक सीटें जीतेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा-शिवसेना गठबंधन के बारे में मुख्यमंत्री फडणवीस व शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को छोड़ कर उनके द्वारा नियुक्ति किए गए दो प्रवक्ता ही कुछ बोलेंगे। बैठक में शामिल एक विधायक ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों दलों के बीच का गठबंधन मजबूत है। लेकिन विधायक किसी गफलत में न रहे। अपने- अपने क्षेत्र में पूरी तैयारी के साथ काम में जुट जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे लिए विपक्ष चुनौती नहीं है लेकिन सरकार की योजनाओं को लोगों तक पहुंचाएं। वोटरों को सरकार के कामों की जानकारी होनी चाहिए। बैठक में विधान परिषद की उपसभापति बनने में नीलम गोर्हे का सत्कार किया गया।  

विधानसभा चुनाव के लिए एनसीपी ने मंगाए आवेदन 

उधर आगामी विधानसभा चुनाव के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने इच्छुक उम्मीदवारों से आवेदन मंगाए हैं। 1 जुलाई 2019 तक पार्टी की उम्मीदवारी के लिए अर्जी भेजी जा सकेगी। इच्छुक उम्मीदवारों के आवेदनों की छानबीन 3 जुलाई को होगी, उसके बाद जुलाई के दूसरे सप्ताह तक उम्मीदवारों की सूची फाइनल कर दी जाएगी। प्रदेश राकांपा अध्यक्ष जयंत पाटिल ने बताया कि उम्मीदवारी के लिए आवेदन हर जिले में पार्टी के जिलाध्यक्ष के पास जमा किया जा सकता है साथ ही पार्टी की वेबसाइट पर भी ऑनलाइन आवेदन स्वीकार किये जायेंगे। 

राकांपा समर्थित उम्मीदवार जीतीं

वहीं पुणे जिला परिषद के बावड़ा-लाखेवाड़ी उपचुनाव में पूर्व मंत्री हर्षवधर्न पाटील की बेटी कांग्रेस उम्मीदवार अंकिता पाटील 17 हजार से अधिक वोट हासिल कर जीत गई हैं। खास बात यह है कि अंकिता हाल ही में राजनीति में सक्रिय हुई हैं और यह उनका पहला चुनाव था। अंकिता के रूप में पाटील घराने की तीसरी पीढ़ी राजनीति में आई हुई है। हर्षवधर्न पाटील की माता रत्नप्रभादेवी पाटील के निधन के बाद रिक्त हुए बावड़ा-लाखेवाड़ी सीट के लिए रविवार को मतदान हुआ। अंकिता ने कांग्रेस की ओर से चुनाव लड़ा था। राकांपा ने भी उन्हें समर्थन दिया था। चुनाव में अन्य किसी पार्टी ने उम्मीदवार खड़े नहीं किए थे। 7 निर्दलीय उम्मीदवार अंकिता के विरोध में खड़े थे।   

पुणे मनपा के उपचुनाव में भाजपा को दो, राकांपा को एक सीट

पुणे महानगरपालिका के प्रभाग क्रमांक 1 के उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी की ऐश्वर्या जाधव ने कांग्रेस-राकांपा आघाड़ी की रेणुका चलवादी को हराकर जीत हासिल की। वर्ष 2017 में हुए पुणे मनपा के चुनाव में प्रभाग क्रमांक 1 से भाजपा की किरण जठार जीती हुई थीं, लेकिन चुनाव आयोग को उन्हाेंने दिया हुआ जाति प्रमाणपत्र अवैध होने की बात साबित हुई। उसके बाद उनका सदस्यत्व रद्द कर प्रभाग के लिए उपचुनाव घोषित किया गया। प्रभाग से 22.5 फीसदी मतदान हुआ था। सुबह मतगणना हुई। रेणुका चलवादी को 4 हजार 85 तथा रोहिणी टेकाले को 2 हजार 344 वोट मिले। मतगणना के बाद ऐश्वर्या जाधव को विजयी घोषित किया गया।