comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

सीन-सीन पर दिखेगी तंबाकू के खिलाफ चेतावनी, स्मोकिंग सीन को लेकर और सख्त हुआ सेंसर बोर्ड

सीन-सीन पर दिखेगी तंबाकू के खिलाफ चेतावनी, स्मोकिंग सीन को लेकर और सख्त हुआ सेंसर बोर्ड

डिजिटल डेस्क, मुंबई। हीरो-हीरोइन हो या खलनायक, फिल्मी पर्दे पर हर कोई धड़ल्ले से हर फिक्र को धुएं में उड़ाता दिखाई देता है, लेकिन अब यह सीन इतने आसान नहीं होंगे। केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड यानी सेंसर बोर्ड ने तंबाखू से हर साल हो रही लाखों मौतों से लोगों को अगाह करने का फैसला किया है। अब फिल्मों में धूम्रपान वाले दृथ्यों पर ‘धुम्रपान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इसके अलावा अब यह भी लिखना होगा कि ‘तंबाखू से हर साल 80 लाख लोगों की मौत हो रही है।

इसके पहले अक्टूबर 2011 में तत्कालिन स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद की पहल पर केंद्र सरकार ने यह नियम लागू किया था कि फिल्मों में सिगरेट, हुक्का पीने या तंबाखू खाने वाले हर दृश्य पर तंबाखू संबंधित चेतावनी प्रदर्शित करनी होगी। सफेद पृष्ठभूमि पर काले फांट में ‘धूम्रपान से कैंसर होता है’, ‘धूम्रपान जानलेवा है’, ‘स्मोकिंग किल’ जैसी चेतावनी लिखनी होगी। स्वास्थ्य चेतावनियां उसी भाषा में लिखने का नियम है, जिस भाषा की फिल्म हो। हालांकि हिंदी फिल्मों में भी यह चेतावनी अक्सर अंग्रेजी में ही दिखाई देती हैं। 

हालांकि अब इतनी चेतावनी लिखने से भी काम नहीं चलेगा। नए नियमों के तहत अब धूम्रपान वाले हर सीन पर उपरोक्त चेतावनी के अलावा यह भी लिखना होगा कि ‘तंबाकू से हर साल 80 लाख लोगों की जान जाती है।’ सेंसर बोर्ड ने इस नए नियम को लागू भी कर दिया है। आने वाली फिल्मों में अब स्मोकिंग वाले सीन पर यह चेतावनी दिखाई देगी। सेंसर बोर्ड की एक अधिकारी ने बताया कि इससे तंबाकू के खिलाफ संदेश और असरदार हो सकेगा। 

फिल्मों में धूम्रपान पाबंदी की उठती रही है मांग 

फिल्मी पर्दे के नायक-नायिकाओं को अपना आदर्श मानने वालों की कमी नहीं है। बहुत से लोगों का ऐसा मानना है कि फिल्मों में सिगरेट-शराब पीने के दृश्यों के कारण समाज में इसे बढ़ावा मिलता है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन वर्षों पहले फिल्मों में धुम्रपान के दृश्यों पर पाबंदी की मांग कर चुका है। एसोसिएशन का मानना है कि स्मोकिंग वाले दृथ्यों पर चेतावनी लिखना कारगर साबित नहीं हो रहा है। साल 2005 में तत्कालिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. अंबुमणि रामदास ने फिल्मों में धुम्रपान वाले दृश्यों पर पूरी तरह से पाबंदी लगाने की मांग की थी। हालांकि पेश से एमबीबीएस डाक्टर रामदास की इस मांग का फिल्म इंडस्ट्री ने कड़ा विरोध किया था जिसके चलते उनकी यह मांग लागू नहीं हो सकी थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अध्ययन के मुताबिक बॉलीवुड की 72 प्रतिशत फिल्मों में सिगरेट पीने के दृश्य होते हैं।  

कमेंट करें
P2YsJ
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।