दैनिक भास्कर हिंदी: उद्धव बोले - लादेन नहीं है वझे, क्राइम ब्रांच से हटाए गए, विधान परिषद में दूसरे दिन भी जारी रहा विपक्ष का हंगामा 

March 10th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि सचिन वझे को ओसामा बिन लादेन की तरह साबित करने की कोशिश की जा रही है। बिना जांच के किसी को फांसी पर नहीं चढ़ाया जाना चाहिए। मामले की जांच की जा रही है जो दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि वझे 2008 में शिवसेना में थे लेकिन उन्होंने सदस्यता का नवीनीकरण नहीं किया। उसके बाद उनका शिवसेना से कोई सीधा संबंध नहीं है। विधानमंडल का बजट सत्र खत्म होने के बाद विधानभवन परिसर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि मुश्किल दौर में भी सरकार राज्य को आगे ले जाने वाला और लोगों को राहत देने वाला बजट पेश किया। मनसुख हिरेन की मौत से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि जांच को दिशा देने की कोशिश की जा रही है। किसी भी हालत में पहले फांसी देकर बाद में जांच नहीं की जा सकती। यह सरकार का तरीका नहीं हो सकता। यह नया तरीका आया है कि किसी को टार्गेट कर उसकी इज्जत उछाली जाए और पूरा चरित्र हनन करने के बाद अगर जांच में आरोपी निर्दोष निकला तो क्या होगा। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा सरकार उसके खिलाफ कार्रवाई करेगी। हिरेन की मौत के मामले को हमने गंभीरता से लिया है।

शेलार ने कहा था वझे को हटाए बगैर नहीं होने देंगे कामकाजः अजित पवार 

वझे के तबादले पर उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि सत्र का आखिरी दिन होने के चलते बुधवार की कार्यवाही अहम थी। बजट भी पास किया जाना था। ऐसे में विपक्ष के नेता और आशीष शेलार मुझसे सुबह मिलने आए और उन्होंने कहा कि वझे को हटाए बिना सदन में कामकाज होने नहीं दिया जाएगा। सरकार को कई बार सामंजस्य बिठाना पड़ता है। मुख्यमंत्री को भी फोन किया गया तो उन्होंने कहा कि अगर इस तरह विवाद का हल निकलता है तो ठीक है। इसके बाद अनिल देशमुख को कहा गया कि विधान परिषद में जवाब के दौरान तबादले का ऐलान करें।   

क्राइम ब्रांच से हटाए गए वझे

मनसुख हिरेन की संदिग्ध मौत के मामले में आरोपों से घिरे एपीआई सचिन वझे का मुंबई पुलिस की अपराध शाखा (क्राइम ब्रांच) से तबादला कर दिया गया है। बुधवार को विधान परिषद में प्रदेश के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने यह घोषणा की। इसके पहले सदन में विपक्ष के नेता प्रवीण दरेकर ने वझे को निलंबित कर गिरफ्तार करने की मांग की। इसको लेकर विपक्ष के सदस्यों ने वेल में आकर जमकर हंगामा किया। विपक्षी सदस्यों के नारेबाजी के कारण सदन का कामकाज तीन बार स्थगित हुआ। दरअसल बुधवार को देशमुख कानून व्यवस्था पर हुई चर्चा के जवाब दे रहे थे। इसी बीच दरेकर ने कहा कि देशमुख महा विकास आघा़डी सरकार के सफलता के आंकड़े पेश कर रहे हैं। हमें इसमें रुचि नहीं है। हम वझे का निलंबन चाहते हैं। इस पर देशमुख ने कहा कि वझे का तबादला कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अंबानी के घर के पास विस्फोटक भरी स्कॉर्पियो कार मिलने के मामले की जांच एनआईए कर रही है। स्कॉर्पियो के चोरी के मामले की जांच एटीएस कर रही है। मनसुख के शव मिलने के मामले की जांच भी एटीएस कर रही है। देशमुख ने कहा कि इस मामले में विपक्ष के पास कोई सबूत है तो एटीएस को दे सकते हैं। 

डेलकर आत्महत्या मामले में पटेल के खिलाफ मामला दर्ज 

देशमुख ने कहा कि दादरा नगरहवेली के सांसद रहे मोहन डेलकर के आत्महत्या मामले में दादर-नगर हवेली के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। डेलकर ने अपनी सुसाइड नोट में आत्महत्या का कदम उठाने के लिए पटेल को जिम्मेदार बताया है। देशमुख ने कहा कि डेलकर के पुत्र अभिनव डेलकर की शिकायत पर मोहन की आत्महत्या प्रकरण में मामला दर्ज कर लिया गया है। इसके अलावा एट्रोसिटी कानून के तहत पटेल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। गौरतलब है कि डेलकर ने मुंबई के एक होटल में आत्महत्या कर ली थी।  

वझे सरकार के दामाद हैं क्याः दरेकर  

इससे पहले सदन में नियम 260 के तहत प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर हुई चर्चा के दौरान दरेकर ने अचानक एपीआई सचिन वझे को निलंबित कर गिरफ्तार करने की मांग की। उन्होंने कहा कि मनसुख की पत्नी ने वझे पर हत्या को लेकर आशंका जताई है। इसके बावजूद सरकार वझे को बचा रही है। वझे सरकार के दामाद हैं क्या ? उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। 

सरकार दामाद को विशेष सुविधा देने वालों में से नहीं - गोर्हे   

इस पर सदन की उपसभापति नीलम गोर्हे ने कहा कि यह सरकार दामाद के लिए विशेष सुविधा देने वाले में से नहीं है।  यदि दामाद होगा तो भी उसे छोड़ना नहीं चाहिए। वो आरोपी है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होनी ही चाहिए। 

सरकार किसी के भी दामाद को नहीं बचाएगी - देशमुख 

देशमुख ने कहा कि इस मामले में सरकार किसी को भी नहीं बचाएगी। एटीएस किसी को नहीं छोड़ेगी। जो कोई भी दोषी होगा। भले वह वझे हो या फिर किसी का दामाद हो। सरकार किसी को भी नहीं छोड़ेगी। सरकार दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करेगी। 


 

खबरें और भी हैं...